चलते-चलते बीच से टूट रहे हैं इलेक्ट्रिक वाहन, लोगों के बीच बढ़ रही है चिंता!

विवेक अग्रवाल का कहना है कि इस घटना के बाद से उन्हें स्कूटी चलाने में डर लगने लगा है और अगर हादसा हाईवे पर होता तो अनहोनी हो सकती थी.

Last Modified:
Friday, 28 April, 2023
electric scooty

भारत सरकार द्वारा इस वक्त देश में इलेक्ट्रिक वाहनों को बहुत ज्यादा बढ़ावा दिया जा रहा है लेकिन कुछ मामले ऐसे भी सामने आ रहे हैं जिनकी वजह से इन इलेक्ट्रिक वाहनों के इस्तेमाल और सुरक्षा को लेकर लोगों की चिंताएं बढ़ रही हैं. हाल ही में ऐसा एक मामला मेरठ से सामने आ रहा है जहां सड़क पर चलते-चलते ही इलेक्ट्रिक स्कूटी बीच से टूट गयी. इस घटना में स्कूटी चालक घायल नहीं हुआ है लेकिन पहले भी एक बार ऐसा हो चुका है और उस मामले में युवक को काफी चोटें आईं थीं. 

बीच सड़क पर टूट गयी स्कूटी?
एपेयर ग्रीव्स कंपनी दोपहिया इलेक्ट्रिक वाहन बनाने वाली एक कंपनी है. जिस स्कूटी के साथ यह हादसा हुआ है वह इसी कंपनी की बतायी जा रही है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 24 मार्च को भी इसी कंपनी की स्कूटी के साथ ऐसा ही एक हादसा हुआ था जिसमें स्कूटी चालक घायल हो गया था. मेरठ में सिविल लाइंस क्षेत्र के विजय नगर निवासी विवेक अग्रवाल इस स्कूटी के मालिक हैं. विवेक ने बताया कि उनका टिफिन का काम है जिसकी देख-रेख उनका बेटा उत्सव करता है क्योंकि इस वक्त उनकी तबियत ठीक नहीं है. उत्सव इलेक्ट्रिक स्कूटी से पीएल शर्मा रोड से कचहरी की ओर जा रहा था और कचहरी पुल के पास पहुंचते ही स्कूटी बीच में टूट गई. स्पीड कम थी इसलिए उत्सव घायल होने से बच गए. 

क्यों टूट रही है स्कूटी? 
टूटी हुई स्कूटी लेकर विवेक और उनका बेटा पीएल शर्मा रोड पर स्थित शोरूम बंसल मोटर्स पर पहुंचे और शोरूम के मालिक अंकुर बंसल को घटना के बारे में जानकारी दी. अंकुर ने बताया कि स्कूटी की चेसिस टूट गयी है जिसे ठीक कर दिया जाएगा. स्कूटी के मालिक विवेक अग्रवाल का कहना है कि इस घटना के बाद से उन्हें स्कूटी चलाने में डर लगने लगा है और अगर यह हादसा हाईवे पर होता तो बहुत बड़ी अनहोनी हो सकती थी. चेसिस वह प्लेटफार्म होता है जिस पर किसी भी दोपहिया या चार पहिया गाड़ी की पूरी बॉडी तैयार की जाती है. इसीलिए चेसिस का मजबूत होना बहुत ही जरूरी होता है. कुछ ऑटोमोबाइल तकनीशियनों का मानना है कि इलेक्ट्रिक स्कूटी की चेसिस हल्की होती है जिसकी वजह से यह आसानी से टूट जाती है. 

पहले भी हुआ है हादसा
विवेक अग्रवाल के बेटे उत्सव ने बताया कि 28 अप्रैल 2022 को ही उन्होंने एपेयर ग्रीव्स की मैगनस मॉडल की स्कूटी 1 लाख रुपये देकर खरीदी थी. मेरठ के न्यू किशनपुरी क्षेत्र के निवासी धर्मेन्द्र ने साल 2022 में इसी कंपनी से स्कूटी खरीदी थी. 24 मार्च को वह रोहटा रोड पर जा रहे थे कि तभी उनकी स्कूटी बीच में से टूट गई थी. इस हादसे में धर्मेन्द्र घयाल हो गए थे. सरकार द्वारा इलेक्ट्रिक वाहनों को दिए जा रहे बढ़ावे के बीच ऐसे मामलों के सामने आने से लोगों के बीच इन वाहनों की सुरक्षा को लेकर चिंता बढ़ती ही जा रही है. 
 

यह भी पढ़ें: Siddharth Mohanty बने LIC के चेयरपर्सन, Adani और Hindenburg से है नाता?

TAGS bw-hindi

Tata ने ग्राहकों को दिया झटका, 1 जुलाई से महंगी होंगी ये गाड़ियां, इतनी होगी बढ़ोत्तरी

टाटा मोटर्स ने पिछली बार अपने कॉमर्शियल वेहिकल्स की कीमतें मार्च में 2 फीसदी बढ़ाई थी.

Last Modified:
Wednesday, 19 June, 2024
BWHindia

देश की दिग्गज ऑटोमोबाइल कंपनी टाटा मोटर्स (Tata Motors) ने अपने कस्टमर्स को झटका दे दिया है. कंपनी ने अपने कॉमर्शियल वेहिकल्स की कीमतें बढ़ाने का ऐलान कर दिया है. टाटा मोटर्स की गाड़ियां लगभग 2 फीसदी महंगी होने जा रही हैं. नई कीमतें एक जुलाई से लागू होने वाली हैं. टाटा मोटर्स ने बुधवार को कहा कि कमोडिटी प्राइस में आ रही तेजी के चलते उसे अपने वेहिकल्स के रेट बढ़ाने पड़ रहे हैं. कंपनी का कहना है कि सभी वैरियेंट पर यह वृद्धि अलग-अलग होगी.

इस साल तीसरी बढ़ोतरी

खबर के मुताबिक, इस साल की शुरुआत में 150 अरब अमेरिकी डॉलर वाले टाटा समूह का हिस्सा, टाटा मोटर्स लिमिटेड ने उत्पादन लागत में बढ़ोतरी की वजह से 1 अप्रैल, 2024 से कीमतों में दो प्रतिशत वृद्धि की घोषणा की थी. टाटा मोटर्स देश की प्रमुख कॉमर्शियल वेहिकल्स मैन्युफैक्चरिंग कंपनी है. यह ट्रक, बस और दूसरी कॉमर्शियल गाड़ियों का मैन्युफैक्चरिंग करती है. टाटा मोटर्स की तरफ से इस साल कमर्शियल व्हीकल की कीमतों में की गई यह तीसरी बढ़ोतरी है. ऑटोमेकर ने पहली बार 1 जनवरी से कमर्शियल व्हीकल की कीमतों में 3% तक की बढ़ोतरी की घोषणा की थी.

टाटा मोटर्स के नतीजे रहे शानदार

टाटा मोटर्स ने 10 मई, 2024 को अपने मार्च तिमाही के वित्तीय परिणाम जारी किए थे. कंपनी ने अपने शुद्ध लाभ में साल-दर-साल 222 प्रतिशत की उल्लेखनीय उछाल दर्ज की, जो ₹17,407.18 करोड़ तक पहुंच गई. इस बीच, कंपनी ने समेकित राजस्व में उल्लेखनीय 13.3 प्रतिशत की वृद्धि देखी, जो ₹1,19,986.31 करोड़ थी.

प्रमुख कमर्शियल व्हीकल्स मैन्युफैक्चरर टाटा

टाटा मोटर्स देश की प्रमुख कमर्शियल व्हीकल्स मैन्युफैक्चरर है. यह ट्रक, बस और अन्य कमर्शियल व्हीकल्स की मैन्युफैक्चरिंग करती है. हाल ही में टाटा मोटर्स के PUNCH ईवी और NEXON ईवी मॉडल 'भारत न्यू कार असेसमेंट प्रोग्राम' (भारत-एनसीएपी) के तहत 5 स्टार रेटिंग पाने वाले पहले इलेक्ट्रिक व्हीकल बन गए हैं. किसी हादसे की स्थिति में गाड़ी में सवार लोगों को सुरक्षित रखने से संबंधित इंतजामों को परखने के लिए सरकार ने भारत-एनसीएपी मानक लागू किए हैं. इस जांच में टाटा मोटर्स की पंच और नेक्सॉन मॉडल के ईवी वेरिएंट भी फाइव स्टार रेटिंग पाने में सफल रहे हैं.
 


Hyundai की राह पर MG Motor, भारतीय शेयर बाजार में एंट्री की तैयारी! 

एमजी मोटर इंडिया अपना आईपीओ लाने की तैयारी कर रही है. अगले 2 से तीन साल में कंपनी का आईपीओ आ सकता है.

Last Modified:
Wednesday, 19 June, 2024
BWHindia

हुंडई मोटर इंडिया (Hyundai Motors IPO) के आईपीओ की खबरों के बीच ऑटोमोबाइल कंपनी एमजी मोटर इंडिया (MG Motor India) ने भी भारतीय शेयर बाजार में एंट्री की तैयारी शुरू कर दी है. अगले तीन से चार सालों में कंपनी अपना आईपीओ लेकर आ सकती है. एक मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत में MG मोटर के पार्टनर JSW ग्रुप इनीशियल पब्लिक ऑफर (IPO) से पहले अपनी हिस्सेदारी बढ़ा सकता है. बता दें कि MG मोटर की पैरेंट कंपनी चीन की SAIC मोटर है, जिसने भारत में सज्जन जिंदल की अगुआई वाले JSW ग्रुप इ हाथ मिलाया है. 

किसके पास कितना स्टेक
MG मोटर इंडिया अब JSW MG मोटर इंडिया हो गई है. सज्जन जिंदल पिछले काफी समय से MG मोटर में हिस्सेदारी खरीदने की कोशिश कर रहे थे और पिछले साल उनकी यह कोशिश सफल हो गई. JSW ग्रुप के पास फिलहाल इस कंपनी में 35% हिस्सेदारी है. प्राइवेट इक्विटी फंड एवरस्टोन कैपिटल के पास 8% हिस्सेदारी है. इसके अलावा करीब 8 प्रतिशत हिस्सेदारी विभिन्न डीलर्स-कर्मचारियों के पास है और शेष 49% हिस्सेदारी चीनी कंपनी SAIC के पास है. आईपीओ से पहले सज्जन जिंदल MG मोटर इंडिया में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाकर 51 प्रतिशत कर सकते हैं.

बाजार में 1% हिस्सेदारी
MG मोटर की पैरेंट कंपनी SAIC चीन की सबसे बड़ी सरकारी कार कंपनी है. एक अनुमान के मुताबिक यह कंपनी भारत में अब तक करीब 3000 करोड़ रुपए का निवेश कर चुकी है. MG Motor सामान्य ईंधन पर चलने वाली कारों के साथ-साथ इलेक्ट्रिक वाहन भी बनाती है. भारत में इसकी SUVs MG हेक्टर (MG Hector), ग्लोस्टर (Gloster) और एस्टोर (Astor) को काफी पसंद किया गया है. इसके अलावा, ZS EV और Comet नाम से MG की इलेक्ट्रिक कारें भी भारत में मौजूद हैं. JSW MG Motor के पास भारत के कार बाजार में अभी महज 1% हिस्सेदारी है.

MG को क्या मिला?
MG मोटर ने 2019 में भारत में अपना कारोबार शुरू किया था. कंपनी ने करीब 5 करोड़ डॉलर में गुजरात में स्थित जनरल मोटर्स के एक प्लांट का अधिग्रहण किया था. MG मोटर इंडिया और JSW ग्रुप की पार्टनरशिप दोनों के लिए ही फायदेमंद है. इससे एक तरफ जहां MG की फंड संबंधी समस्या दूर हुई है, वहीं JSW को कार बाजार में एंट्री मिल गई है. MG मोटर इंडिया ने भारत में अपनी एक अलग पहचान स्थापित की है. MG हेक्टर को काफी ज्यादा पसंद किया गया है. इसके अलावा, MG की दूसरी कारें भी भारतीय ग्राहकों के दिल में जगह बनाने में कामयाब रही हैं. लेकिन इस सबके बावजूद कंपनी ने न तो अपना प्रोडक्शन बढ़ाया और न ही कैपिसिटी बढ़ाने का प्रयास किया. इसकी एक वजह रही उसका चीनी कनेक्शन. दरअसल, चीन के साथ भारत के संबंध अच्छे नहीं चल रहे हैं, ऐसे में MG मोटर इंडिया अपनी पैरेंट कंपनी SAIC Motor से फंड नहीं जुटा पा रही थी. लेकिन JSW Group के रूप में उसे भारतीय साझेदार मिलने से उसकी फंड की समस्या काफी हद तक दूर गो गई है.

जिंदल को क्या मिला?  
JSW Group को इस डील के जरिए ऑटोमोबाइल सेक्टर में एंट्री मिल गई है. यह सेक्टर तेजी से विकसित हो रहा है, ऐसे में अब सज्जन जिंदल के पास MG के सहारे लाभ कमाने का मौका है. जिंदल के पास MG मोटर इंडिया में 35% हिस्सेदारी है. एमजी मोटर इंडिया के ऑफर फॉर सेल (OFS) के रूप में जब अपना आईपीओ लेकर आएगी, तो जिंदल के पास कंपनी में 49% और फिर 51% तक हिस्सेदारी खरीदने का विकल्प होगा. SAIC Motor ऑफर फॉर सेल के तहत अपनी हिस्सेदारी बेचेगी. इस तरह कंपनी में चीनी हिस्सेदारी कम हो जाएगी. एक्सपर्ट्स मानते हैं MG में हिस्सेदारी जिंदल के लिए लाभदायक रहेगी. क्योंकि MG Motor भारत में एक ट्रस्टेड ब्रैंड बन गया है.


Bajaj ने लॉन्च की 4 नई पल्सर, जानें क्या होगी इनकी कीमत? 

बजाज (Bajaj) ने अपनी पॉप्यूलर पल्सर N160 के नए वैरिएंट के साथ ही पल्सर 125, 150 और 220F को भी अपडेट किया है. 

Last Modified:
Saturday, 15 June, 2024
BWHindia

बजाज (Bajaj) ने अपनी पॉपुलर पल्सर N160 का नया वैरिएंट लॉन्च किया है. इसके साथ ही पल्सर 125, 150 और 220F को भी नए और प्रीमियम फीचर के साथ अपडेट किया गया है. इन मॉडलों में बाइक लवर्स को अब बेहतर ब्लूटूथ-इनेबल कनेक्टिविटी मिलेगी, जो राइडिंग एक्सपीरियंस को बढ़ाएगी. इसमें मिलने वाला इंस्ट्रूमेंट कंसोल टर्न-बाय-टर्न नेविगेशन को सपोर्ट करता है. बेहतर हैंडलिंग और राइड एक्सपीरियंस के लिए नई पल्सर N160 में शैंपेन गोल्ड 33mm USD फोर्क्स मिलेगा. तो चलिए आपको इन चारों बाइक्स के फीचर और कीमत की जानकारी देते हैं. 

मिलेंगे मल्टी राइड मोड
पल्सर N160 में राइडिंग एक्सपीरियंस बढ़ाने और बेहतर कंट्रोल के लिए मल्टी राइड मोड मिलेंगे. इसमें रेन, रोड और ऑफ-रोड शामिल है. रोड मोड स्टैंडर्ड तौर पर सेट किया गया है. यह सिटी और हाईवे पर रेगुलर राइडिंग के लिए सबसे परफेक्ट है. रेन मोड गीली सड़कों के लिए दिया गया है, ये फिसलन वाली जगह पर राइडिंग को बेहतर बनाता है. साथ ही स्टेबल ब्रेकिंग को भी सुनिश्चित करता है. ऑफ-रोड मोड उतार-चढ़ाव वाले इलाके में सुगम राइडिंग एक्सपीरियंस देगा.
 

बाइक्स में मिलेंगे ये फीचर्स
पल्सर N160 में 164.82cc, ऑयल कूल्ड इंजन मिलता है, जो 8750rpm पर 11.7 kW(16PS) तक का आउटपुट देने के लिए तैयार है. ब्रेकिंग के लिए दोनों सिरों पर डिस्क ब्रेक दिए गए हैं, जिसमें डुअल-चैनल ABS स्टैंडर्ड है. वहीं, पल्सर 125 के कार्बन फाइबर सिंगल और स्प्लिट सीट वैरिएंट अब पूरी तरह से डिजिटल ब्लूटूथ-इनेबल कंसोल, USB चार्जर और नए ग्राफिक्स मिलेंगे. पल्सर 150  और पल्सर में भी यही फीचर्स मिलेंगे. 220F में इंजन और टेलिस्कोपिक फ्रंट फोर्क्स और डुअल रियर शॉक्स पहले की तरह बरकरार हैं.

ये होगी कीमत 
बजाज ने अपने नई पल्सर N160 वैरिएंट की एक्स-शोरूम कीमत 139,693 रुपये तय की है. पल्सर 125 कार्बन फाइबर सिंगल सीट की एक्स-शोरूम कीमत 92,883 रुपये है. पल्सर 150 सिंगल डिस्क की एक्स-शोरूम कीमत 113,696 रुपये है. वहीं, पल्सर 220F की एक्स-शोरूम कीमत 141,024 रुपये है.

इसे भी पढ़ें-Hyundai Motors लेकर आएगी देश का सबसे बड़ा IPO, टूटेगा LIC का रिकॉर्ड


 


टाटा की E-Car Punch को टक्कर देने आ रही हुंडई की ये नई कार, सिंगल चार्ज पर चलेगी 355 किमी

हुंडई की नई इनस्टर EV ड्राइविंग रेंज और टेक्नोलॉजी में एक स्टैंडर्ड सेट करने के लिए तैयार है. कंपनी ने इस कार का टीजर भी लॉन्च कर दिया है.

Last Modified:
Wednesday, 12 June, 2024
BWHindia

भारतीय बाजार में पिछले कुछ सालों से इलेक्ट्रिक कारों (EV) की डिमांड में जबरदस्त तेजी देखने को मिल रही है. वहीं, इस क्षेत्र में लगातार टाटा मोटर्स (Tata Motors) का दबदबा बरकरार है. ऐसे में अब हुंडई (Hyundai) टाटा पंच EV को टक्कर देने नई सब-कॉम्पैक्ट इलेक्ट्रिक एसयूवी लॉन्च करने जा रही है. बता दें कि हुंडई ने अपनी अपकमिंग इलेक्ट्रिक एसयूवी का टीजर लॉन्च कर दिया है, तो चलिए जानते हैं आपको इस ई- कार में क्या खास फीचर्स मिलेंगे?

हुंडई की नई EV में मिलेंगे ये फीचर्स
हुंडई की अपकमिंग इलेक्ट्रिक एसयूवी हुंडई इनस्टर (Hyundai Inster) में एक यूनिक फेसिया दिया जाएगा. कंपनी द्वारा जारी किए गए टीजर में अपकमिंग एसयूवी का बोनट, विंडस्क्रीन और ओवरऑल साइड सिल्हूट साफतौर पर देखा जा सकता है. वहीं, ईवी में चार्जिंग पोर्ट सामने की तरफ है, जो टाटा पंच ईवी में बीच में दिया गया था. इसके अलावा, हुंडई इनस्टर में नए पिक्सेल-स्टाइल क्वाड-एलिमेंट सर्कुलर LED DRL और पिक्सेल-स्टाइल 7-एलिमेंट एलईडी टर्न इंडिकेटर्स भी हैं. दूसरी ओर हुंडई इनस्टर के अलॉय व्हील यूनिक दिखते हैं. हुंडई इनस्टर में भी रूफ रेल, बॉडी क्लैडिंग और हाई ग्राउंड क्लीयरेंस जैसे क्रॉसओवर बिट्स होंगे.

ड्राइविंग रेंज और टेक्नोलॉजी में आगे
हुंडई के अनुसार, अपकमिंग हुंडई इनस्टर EV ड्राइविंग रेंज और टेक्नोलॉजी में भी एक स्टैंडर्ड सेट करने के लिए तैयार है. कंपनी का दावा है कि हुंडई इनस्टर EV एक बार चार्ज करने पर अधिकतम 355 किलोमीटर की ड्राइविंग रेंज देगी. हालांकि, कंपनी ने अब तक अपकमिंग इलेक्ट्रिक एसयूवी के बैटरी और मोटर स्पेक्स का खुलासा नहीं किया है. 

इस कार से मुकाबला
भारत में टाटा मोटर्स सबसे बड़ी इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी है. बता दें, भारत में होने वाली कुल इलेक्ट्रिक कार की बिक्री में अकेले 65 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी टाटा मोटर्स की है. इसमें टाटा पंच EV, टाटा नेक्सन EV, टाटा टियागो EV और टाटा टिगोर EV सबसे पॉपुलर इलेक्ट्रिक कार हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अपकमिंग हुंडई इनस्टर EV का मुकाबला भारत में इस सेगमेंट की सबसे पॉपुलर एसयूवी टाटा पंच EV से होगा.

इसे भी पढ़ें-दिल्ली में लॉन्च हुआ Amul Ice Lounge, साल के अंत तक 100 आउटलेट खोलने का लक्ष्य


कौन हैं अशोक एलुस्वामी, जिनकी पूरी दुनिया के सामने Elon Musk ने की तारीफ?

टेस्ला के मालिक एलन मस्क ने भारतीय मूल के इंजीनियर अशोक एलुस्वामी की जमकर तारीफ की है.

Last Modified:
Tuesday, 11 June, 2024
BWHindia

पूरी दुनिया में भारतीय अपने कौशल लोहा मनवा रहे हैं. दुनिया की कई टॉप कंपनियों के बॉस भारतीय हैं. हम भारतीय जहां भी जाते हैं, अपने हुनर से सबको अपना कायल बना लेते हैं. दुनिया की सबसे बड़ी इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला के चीफ एलन मस्क भी एक भारतीय इंजीनियर के कायल हो गए हैं. उन्होंने सोशल मीडिया पर इंजीनियर की जमकर तारीफ की है. दरअसल, भारतीय मूल के अशोक एलुस्वामी (Ashok Elluswamy) ने टेस्ला में अपनी जर्नी को सोशल मीडिया पर बयां किया था, जिसके जवाब में मस्क ने उनकी खूब तारीफ की. 

इस टीम के पहले इंजीनियर
भारतीय मूल के इंजीनियर अशोक एलुस्वामी ने टेस्ला की ऑटो पायलट टेक्नोलॉजी के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. एलुस्वामी टेस्ला की ऑटो पायलट टीम के पहले इंजीनियर थे. उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफार्म 'X' पर अपनी इस यात्रा को पूरी दुनिया के साथ साझा किया. इसमें उन्होंने अपने बॉस एलन मस्क का जिक्र किया. इसके जवाब में मस्क ने अशोक की जमकर प्रशंसा की. उन्‍होंने यहां तक कहा कि अशोक और टीम के बिना टेस्‍ला भी दूसरी कंपनियों की तरह होती. 

ये भी पढ़ें - BW हिंदी ने लगाया था जो अनुमान, Elon Musk के मैसेज से उस पर लगी मुहर!

2014 में की थी शुरुआत
एलुस्वामी ने अपने पोस्ट में 2014 में ऑटो-पायलट प्रोजेक्ट के शुरुआती दिनों को याद किया. अपने इस पोस्ट में उन्होंने सीमित कंप्यूटिंग संसाधनों - सिर्फ 384 KB मेमोरी के साथ कामकाज से जुड़ी चुनौतियों का जिक्र किया. उन्होंने बताया कि टीम में मस्क के महत्वाकांक्षी लक्ष्यों के प्रति संदेह था, लेकिन उनकी लगातार प्रेरणा ने टीम को इन लक्ष्यों को हासिल करने के लिए प्रोत्‍साहित किया. इसके जवाब में मस्क ने कहा कि अशोक और हमारी अद्भुत टीम के बिना हम केवल एक और कार कंपनी होते. 

चेन्नई से अशोक का नाता
अशोक एलुस्वामी ने चेन्नई के गिंडी स्थित कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से इलेक्ट्रॉनिक्स और कम्युनिकेशन में डिग्री प्राप्त की है. इसके बाद आगे की पढ़ाई के लिए वह विदेश चले गए. उन्होंने अमेरिका की Carnegie Mellon University से रोबोटिक सिस्टम डेवलपमेंट की पढ़ाई की. अशोक 2014 में टेस्ला का हिस्सा बने. इससे पहले उन्होंने WABCO व्हीकल कंट्रोल सिस्टम में दो साल से अधिक समय तक बतौर सॉफ़्टवेयर इंजीनियर काम किया. वह Volkswagen का भी हिस्सा रहे हैं. अशोक कंप्यूटर विज़न और परसेप्शन के साथ-साथ प्लानिंग और कंट्रोल में व्यापक अनुभव रखते हैं. वह अपने परिवार के साथ सैन फ़्रांसिस्को में रह रहे हैं.


Yamaha ने लॉन्च किया Fascino S स्कूटर, पार्क करने पर खुद बताएगा अपनी जगह

Yamaha ने अपने धांसू स्कूटर Fascino S को ‘आंसर बैक’ नाम की नई खूबी के साथ पेश किया है, जिसके काफी फायदे मिलेंगे.

Last Modified:
Monday, 10 June, 2024
BWHindia

Yamaha मोटर इंडिया ने आज भारतीय बाजार में अपने मशहूर स्कूटर Fascino के नए 'S' वेरिएंट को लॉन्च किया है. ये नया वेरिएंट पिछले मॉडल के मुकाबले ज्यादा तगड़े फीचर हैं. इसमें कई ऐसे फीचर्स दिए गए हैं जो इस स्कूटर को ज्यादा एडवांस बनाते हैं. नए Fascino S को कंपनी ने तीन अलग-अलग रंगों में पेश किया है, जिनकी कीमत भी अलग-अलग है. इस स्कूटर की शुरुआती कीमत 93,730 रुपये (एक्स-शोरूम) तय की गई है.

स्कूटर की पावर और परफॉर्मेंस

Yamaha Fascino S में कंपनी ने 125CC की क्षमता का एयर-कूल्ड इंजन इस्तेमाल किया है, जो 8.04bhp की पावर और 10.3Nm का टॉर्क जेनरेट करता है. इस स्कूटर में 5.2 लीटर का फ्यूल टैंक दिया गया है और इसका कुल वजन 99 किग्रा है. इस स्कूटर के फ्रंट में 12 इंच और पिछले हिस्से में 10 इंच का अलॉय व्हील दिया गया है. इसके अलावा फ्रंट में टेलेस्कोपिक फॉर्क और पिछले हिस्से में मोनोशॉक सस्पेंशन दिया गया है.

स्कूटर में मिलेगा ये खास फीचर

कंपनी ने बताया कि इस स्कूटर को आंसर बैक (Answer Back) फीचर के साथ पेश किया गया है. ये स्कूटर यूरोपियन डिजाइन, परफॉर्मेंस और इनोवेशन के साथ तैयार किया गया है. कंपनी ने इसे तीन बेहतरीन कलर ऑप्शन में पेश किया है. कंपनी ने इस स्कूटर को मैट रेड, मैट ब्लैक और मैट ब्लू कलर के साथ पेश किया है. इस स्कूटर का हाइलाइट फंक्शन आंसर बैक फीचर है. इस फीचर को यामाहा की मोबाइल एप्लीकेशन ‘Yamaha Scooter Answer Back’ के जरिए इस्तेमाल कर सकते हैं. एप्लीकेशन के जरिए आंसर बैक बटन को प्रेस करते हैं तो इसके जरिए अपने स्कूटर को आसानी से लोकेट किया जा सकता है. इस ऐप को आप गूगल प्ले स्टोर और ऐप स्टोर के जरिए डाउनलोड कर सकते हैं.

Yamaha Fascino S स्कूटर को कंपनी ने तीन अलग-अलग रंगों में लॉन्च किया है. ये स्कूटर मैट रेड, मैट ब्लैक और डार्क मैट ब्लू कलर में बिक्री के उपलब्ध है. जिनकी कीमत इस प्रकार है. 

कलर वेरिएंट                        कीमत (एक्स शोरूम)
मैट रेड और मैट ब्लैक            93,730
डार्क मैट ब्लू                         94,530

नए स्कूटर के लॉन्च के मौके पर यामाहा मोटर इंडिया ग्रुप ऑफ कंपनीज के चेयरमैन, ईशिन चिहाना ने कहा कि यामाहा में हम लगातार ग्राहकों की ज़रूरतों को प्राथमिकता देते हैं और ऐसे समाधान बनाते हैं जो उनके ड्राइविंग एक्सपीरिएंस को बेहतर बनाए. नए Fascino S में 'आंसर बैक' फीचर निश्चित रूप से हमारे ग्राहकों को पसंद आएगा.
 


BW हिंदी ने लगाया था जो अनुमान, Elon Musk के मैसेज से उस पर लगी मुहर!

टेस्ला के मालिक एलन मस्क ने PM मोदी को लोकसभा चुनाव में जीत पर बधाई देते हुए भारत आने के संकेत दिए हैं.

Last Modified:
Saturday, 08 June, 2024
BWHindia

दुनिया की सबसे बड़ी इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला के मालिक एलन मस्क (Elon Musk) ने अप्रैल में प्रस्तावित अपनी भारत यात्रा को अचानक टाल दिया था. इसके बाद उन्होंने खामोशी की चादर ओढ़ ली और यह माना जाने लगा कि शायद उन्होंने टेस्ला को भारत लाने का इरादा छोड़ दिया है. मीडिया की तमाम खबरों में एलन मस्क के भारत से मोह भंग के कारण गिनाए जाने लगे. BW हिंदी ने उस वक्त अपनी एक रिपोर्ट में बताया था कि Elon Musk लोकसभा चुनाव के बाद नई सरकार के बनने तक इंतजार करना चाहते हैं. इसलिए उन्होंने टेस्ला की भारत योजना को लेकर सरकार से कोई बातचीत नहीं की है. अब मस्क ने भारत आने का संकेत देकर एक तरह से इस रिपोर्ट पर मुहर लगा दी है.

PM मोदी को दी बधाई
दुनिया के रईस नंबर 2 एलन मस्क ने लोकसभा चुनाव में जीत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई देते हुए भारत आने के संकेत भी दिए हैं. सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म 'X' पर PM मोदी को टैग करते हुए उन्होंने लिखा है - दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक चुनाव में आपकी जीत पर बधाई! मैं आशा करता हूं कि मेरी कंपनियां भारत में रोमांचक काम करेंगी. मस्क के इस मैसेज को उनके जल्द भारत आने के संकेत के रूप में देखा जा रहा है. बता दें कि एलन मस्क पिछले काफी समय से टेस्ला की भारत में एंट्री का प्रयास कर रहे हैं.    

तब दिया था ये कारण
एलन मस्क का इस साल 21-22 अप्रैल अप्रैल को भारत आने वाले थे. उनकी इस यात्रा में भारत को लेकर टेस्ला के प्लान की घोषणा होनी थी. लेकिन ऐन वक्‍त पर मस्‍क ने अपनी भारत यात्रा को टाल दिया. उन्होंने कहा कि टेस्ला में बढ़ते दायित्वों के कारण वह फिलहाल भारत नहीं आ रहे हैं. उनकी तरफ से यह ज़रूर कहा गया था कि वह भारत आएंगे, लेकिन कोई डेट फाइनल नहीं हुई थी. गौरतलब है कि टेस्ला जैसी ग्लोबल कंपनियों को भारत में आमंत्रित करने के लिए मोदी सरकार ने नई EV पॉलिसी बनाई है. हालांकि, स्थानीय कंपनियां सरकार की इस नीति से खुश नहीं हैं. क्योंकि उन्हें लगता है कि इससे उनके लिए प्रतियोगिता बढ़ जाएगी. 

 


सामने आया Tata की इस नई कार का टीजर, जानिए कब होगी लॉन्च और कितनी होगी कीमत?

टाटा मोटर्स (Tata Motors) अगले महीने अपनी Altroz Racer कार लॉन्च करने वाली है. कंपनी इस कार का पहला टीजर भी जारी कर दिया है.

Last Modified:
Monday, 27 May, 2024
BWHindia

देश की बड़ी कार निर्माता कंपनी टाटा मोटर्स (Tata Motors) अपने Altroz Racer Edition को बहुत जल्द भारतीय बाजार में लॉन्च करने वाली है. इसे सबसे पहले ऑटो एक्सपो में पेश किया गया था. अब कंपनी ने इस कार का पहला टीजर भी लॉन्च कर दिया है. तो चलिए जानते हैं ये कब लॉन्च होगी और इसकी कीमत कितनी है?

इन कारों से होगा मुकाबला
टाटा मोटर्स अगले महीने जून में Altroz Racer लॉन्च करने वाली है. कंपनी ने इस कार का पहला टीजर रिलीज किया है, जो मौजूदा अल्ट्रोज का स्पोर्टी वर्जन होगा. टाटा अल्ट्रोज रेसर एडिशन की लंबाई 3990mm, चौड़ाई 1755mm, ऊंचाई 1523mm और इसका व्हीलबेस 2501mm होगा. इसमें 16 इंच के व्हील्स दिए जाएंगे. इस कार का मुकाबला हुंडई आई20 एन लाइन और मारुति सुजुकी फ्रोंक्स टर्बो जैसी कारों से होगा.

कार में मिलेंगे ये फीचर
अल्ट्रोज रेसर में डुअल टोन कलर स्कीम, रेसिंग स्ट्रिप्स के साथ छत और बोनट, Altroz Racer बैज मिलेगा. इसमें पीछे की तरफ नए रियर स्पॉइलर मिलेंगे. वहीं, कार के इंटीरियर में ऑल ब्लैक इंटीरियर थीम और रेड टच दिया जाएगा.

इंजन भी होगा पावरफुल
नई अल्ट्रोज में 1.2 लीटर, 3-सिलेंडर टर्बो पेट्रोल इंजन दिया जाएगा, जो 120bhp की पावर और 170Nm का टॉर्क जनरेट करेगा. हालांकि इस मॉडल के साथ सिर्फ 6-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स का विकल्प होगा. इसका अल्ट्रोज रेसर लगभग हुंडई आई20 एन लाइन जितना ही पावरफुल होगा.
आपको बता दें, Hyundai i20 N Line में 1.0 लीटर, 3 सिलेंडर टर्बो पेट्रोल इंजन मिलता है, जो 120bhp की पावर और 172Nm टॉर्क जनरेट करता है. वहीं मारुति सुजुकी फ्रोंक्स टर्बो में 1.0 लीटर, 3 सिलेंडर पेट्रोल इंजन मिलता है, जो 100bhp की पावर और 148Nm का टॉर्क जनरेट करता है.

कितनी होगी कीमत?
कंपनी की ओर से अल्ट्रोज रेसर की कीमत ऑफिशियल तौर पर घोषित नहीं हुई है. टाटा अल्ट्रोज के नॉर्मल मॉडल्स की कीमत एक्स-शोरूम 6.65 लाख से 10.80 लाख रुपये के बीच है. ऐसे में उम्मीद लगाई जा रही है कि इस टाटा आल्ट्राज की कीमत 10.80 लाख रुपये होगी. 

इसे भी पढ़ें-Parcel Scam पर लगेगी लगाम, Microsoft के साथ मिलकर काम कर रही सरकार


इन इलेक्ट्रिक व्हीकल कंपनियों को ब्लैकलिस्ट कर सकती है सरकार, FAME-2 स्कीम में की थी चोरी

मंत्रालय ने 13 कंपनियों की छानबीन की, जिसमें से 6 कंपनियां FAME-2 के नियमों का उल्लंघन करती हुई पाई गईं. इसमें हीरो इलेक्ट्रिक, ओकिनावा ऑटोटेक, बेनलिंग इंडिया एनर्जी आदि शामिल हैं.

Last Modified:
Friday, 24 May, 2024
BWHindia

तीन इलेक्ट्रिक व्हीकल मैन्युफैक्चर्र Hero Electric, Okinawa और BENLING INDIA को लेकर एक बड़ी खबर सामने आ रही है. ये तीनों ही कंपनियां गलत तरीके से FAME-2 सब्सिडी का बेनेफिट लेकर उसे वापस करने में विफल रही हैं, जिसके बाद ऐसा माना जा रहा है कि इन तीनों कंपनियों को सभी सरकारी स्कीम से ब्लैकलिस्ट किया जा सकता है. साल 2022 में, हैवी इंडस्ट्रीज़ को स्कीम के तहत कई शिकायतें मिली थीं. शिकायत में आरोप था कि कंपनियां स्थानीय सोर्सिंग आवश्यकताओं का उल्लंघन करके इलेक्ट्रिक वाहन बेच रहे थे.

6 कंपनियों ने किया था उल्लंघन

मंत्रालय ने 13 कंपनियों की छानबीन की, जिसमें से 6 कंपनियां FAME-2 के नियमों का उल्लंघन करती हुई पाई गईं. इसमें हीरो इलेक्ट्रिक, ओकिनावा ऑटोटेक, बेनलिंग इंडिया एनर्जी और टेक्नोलॉजी, एमो मोबिलिटी, ग्रीव्स इलेक्ट्रिक मोबिलिटी और रिवॉल्ट मोटर्स शामिल हैं. लेकिन इन 6 कंपनियों में से एमो मोबिलिटी, ग्रीव्स इलेक्ट्रिक मोबिलिटी और रिवॉल्ट मोटर्स ने सब्सिडी की राशि को वापस कर दिया. इन कंपनियों ने ये राशि ब्याज के साथ वापस की. कुछ ही महीनों में इन कंपिनयों ने पैसा वापस कर दिया और इन कंपनियों को सरकार से क्लीन चिट मिल गई.

इन 3 कंपनियों ने इंसेंटिव्स वापस नहीं किए

वहीं दूसरी ओर हीरो इलेक्ट्रिक, ओकिनावा ऑटोटेक और बेनलिंग इंडिया ने इंसेंटिव्स वापस नहीं किए और परिणामस्वरूप उन्हें FAME-II योजना से उनका रजिस्ट्रेशन खत्म कर दिया गया. रजिस्ट्रेशन खत्म करने के बाद इन कंपनियों को सरकारी स्कीम के बेनेफिट से डीबार्ड करना था, जो हीरो इलेक्ट्रिक और बेनलिंग के लिए हो गया और ओकिनावा क्योंकि कोर्ट में मौजूद थी, इसलिए उसके साथ नहीं हुआ.

ब्लैकलिस्ट हो सकती हैं ये कंपनियां

सरकार एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि अब अगला कदम इन तीनों कंपनियों को सरकारी स्कीम से ब्लैकलिस्ट करना है. ये अभी तक नहीं हुआ क्योंकि ये लंबी प्रोसेस है. बता दें कि हैवी इंडस्ट्रीज़ मिनिस्ट्री ने इलेक्ट्रिक मोबिलिटी प्रमोशन स्कीम (EMPS) को मार्च 2024 में लॉन्च किया था. ये 4 महीने के लिए ही लागू है. इस बजट 500 करोड़ रुपए है और ईवी को सब्सिडी देने के लिए तैयार की गई है.

क्या है FAME-II योजना?

योजना का मुख्य उद्देश्य हाइब्रिड और इलेक्ट्रिक कारों, दोपहिया और तिपहिया पर फास्टर एडॉप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग आफ हाइब्रिड एंड इलेक्ट्रिक वेहिकल्स इन इंडिया (FAME India I) योजना के तहत प्रोत्साहन करना है ताकि इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद पर ज़ोर दिया जा सके. इसके अलावा, इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए एक आवश्यक चार्जिंग बुनियादी ढांचा स्थापित करना. इतना ही नहीं, यह योजना पर्यावरण प्रदूषण और ईंधन की सुरक्षा के मुद्दे को दूर करने में भी मदद करेगी.
 


दिल्ली में जल्द चलेंगी Uber की बसें, सरकार से मिली मंजूरी, यात्रिओं को होंगे ये फायदे

Uber को दिल्ली ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट से सरकार की प्रीमियम बस योजना के तहत दिल्ली में बसें चलाने के लिए एग्रीगेटर लाइसेंस मिल गया है.

Last Modified:
Tuesday, 21 May, 2024
BWHindia

ऑनलाइन कैब बुकिंग ऐप Uber को दिल्ली में बस चलाने की मंजूरी मिल गई है. कंपनी को दिल्ली सरकार की प्रीमियम स्कीम के तहत यातायात विभाग से लाइसेंस दिया गया है. इसके के साथ ही दिल्ली Uber बस सर्विस को मंजूरी देने वाला पहला राज्य बन गया है. दिल्ली ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट की ओर से उबर को एग्रीगेट लाइसेंस दिया गया है, जिसका मकसद राजधानी में बेहतर पब्लिक ट्रांसपोर्ट मुहैया कराना है. अब राजधानी दिल्ली में यात्रा करने वाले यात्री उबर एप्लीकेशन के जरिए बसों में प्री बुकिंग कर सकेंगे.

लाइसेंस देने वाला पहला राज्य बना दिल्ली

कंपनी की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि उबर का उद्देश्य है कि वो अपनी ग्लोबल पहुंच का फायदा उठाते हुए निजी पब्लिक ट्रांसपोर्ट में अपनी पहुंच बनाए. उबर ने आगे कहा कि दिल्ली बस सर्विस शुरू करने के लिए लाइसेंस देने वाला पहला राज्य बन गया है. वहीं उबर दिल्ली प्रीमियम बस स्कीम के तहत लाइसेंस प्राप्त करने वाली पहली एग्रीगेटर बन गया है. उबर शटल इंडिया के चीफ अमित देशपांडे ने कहा कि एक सफल पायलट प्रोग्राम के बाद हम ऑफिशियल तौर पर दिल्ली में बस की सर्विस शुरू करने से उत्साहित हैं. पायलट प्रोग्राम के दौरान हमने बसों की महत्वपूर्ण मांग देखी.

ये भी पढ़ें- भारतीय रेलवे इस पड़ोसी देश के लिए बनाएगी रेल डिब्‍बे, जानिए कितनी गहरी है दोनों की दोस्‍ती?

कैसे मिलेगी Uber बस की सुविधा?

फिलहाल, Uber बस को दिल्ली में चलाने की मंजूरी मिली है लेकिन अभी कंपनी ने अपनी बस सर्विस को शुरू नहीं किया है, हालांकि, ऐसा कहा जा रहा है कि Uber की प्रीमियम बसों की सुविधा ऐप के माध्यम से मिल सकेगी. यूजर्स उबर ऐप के जरिए प्रीमियम बस की ऑनलाइन बुकिंग कर सकते हैं. यहीं से सीट और अपने रूट के अनुसार बस की उपलब्धता को चेक कर सकते हैं. ऐप पर बाइक, ऑटो और कैब के अलावा एक ऑप्शन ‘Uber शटल’ शो होगा जिसपर क्लिक करके यूजर्स अपने पसंदीदा रूट के लिए सीट की बुकिंग पहले से ही कर सकेंगे.

दिल्ली में शुरू हो सकती है बस सर्विस

Uber बस के लिए आप ऐप के माध्यम से ही सीट की बुकिंग पहले से कर सकते हैं, AC वाली इन बसों में 19 से 50 यात्री बैठ सकेंगे. इसके अलावा अपने रूट के लिए जानकारी पहले ही ऐप के माध्यम से हासिल कर सकेंगे. ऐप के जरिए यूजर्स को लाइव लोकेशन ट्रैक करने का भी ऑप्शन मिल सकेगा. Uber की शटल सर्विस जल्द ही दिल्ली में शुरू हो सकती है. फिलहाल, इसके बारे में कोई ऑफिशियल जानकारी नहीं मिली है. इस सुविधा को ऐप पर भी देखा जा सकता है. Uber की बस सर्विस शुरू होने पर कैब, बाइक और ऑटो के साथ आपको नया ऑप्शन उबर शटल का शो होने लगेगा.

क्या होता है एग्रीगेटर?

दिल्ली ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट से Uber को एग्रीगेटर लाइसेंस मिला है, जिसका मतलब बिजलेस मॉडल होता है. ये एक नेटवर्क मॉडल कहलाता है जिसके तहत सर्विस देने वाले और सर्विस का फायदा उठाने वालों को एक प्लेटफॉर्म पर जोड़ा जाता है. उबर की बस सर्विस कंपनी के ऑफिशियल प्लेटफॉर्म या उबर ऐप पर दी जाएगी.