HP ने Google से मिलाया हाथ, दोनों मिलकर करेंगे इस डिवाइस का निर्माण 

इस Chromebook का निर्माण चेन्‍नई की फ्लेक्‍स फैसिलिटी में किया जा सकता है. इस डिवाइस के भारत में निर्माण से ये यहां के छाात्रों को सस्‍ते में मिल पाएगा.

Last Modified:
Thursday, 28 September, 2023
Google Chromebook

पर्सनल पीसी के बाजार में अहम भूमिका निभाने वाला HP और नामी टेक कंपनी गूगल आने वाले समय में क्रोमबुक (Chromebook) का निर्माण करने जा रहे हैं.  इसे लेकर दोनों कंपनियों ने हाथ मिलाया है. इन दोनों की साझेदारी से माना जा रहा है कि देश में सस्‍ते पीसी की जरूरत को पूरा किया जा सकेगा. विशेषतौर पर एजुकेशन सेक्‍टर में जो कमी है उसे पूरा किया जा सकेगा. 

कई स्‍कूलों में पैदा हो रही है इनकी डिमांड 
मौजूदा समय में जब से कंप्‍यूटर हर क्षेत्र में पहुंच चुका है ऐसे शिक्षा सेक्‍टर में भी इसकी जबदरस्‍त मांग देखने को मिल रही है. भारत के स्‍कूलों में लैपटॉप से लेकर डेस्‍कटॉप और दूसरे कंप्‍यूटर उपकरणों की मांग में इजाफा देखा जा रहा है. ऐसे में इस साझेदारी का मकसद यही है कि स्‍कूलों  में पैदा होने वाली उस जरूरत को पूरा किया जा सके और स्‍टूडेंट को सस्‍ते और हाई-क्‍वॉलिटी उपकरण मुहैया कराए जा सकते हैं. 

 इतनी हो सकती है क्रोमबुक की कीमत 
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एचपी और गूगल की साझेदारी में बनने वाले इस क्रोमबुक की कीमत 20 हजार से 30 हजार रुपये तक हो सकती है. अगर ये बनता है तो इससे एचपी को स्‍कूलों में जरूरत पूरी करने में बड़ी मदद मिलेगी. साथ ही एचपी अपने 11 इंच के क्रोमबुक के साथ 9 इंच के टैबलेट को भी बाजार में लॉन्‍च कर सकती है. क्‍योंकि इसका निर्माण भारत में होने जा रहा है तो ऐसे में कंपनी को ये भी उम्‍मीद है इसकी कीमत दूसरी कंपनियों के साथ प्रतिस्‍पर्धी भी बनी रहेगी. इसका निर्माण चेन्‍नई में फ्लेक्‍स फैसिलिटी में किया जा सकता है. 

क्‍या कहते हैं कंपनी के सीनियर डॉयरेक्‍टर? 
एचपी कंपनी के सीनियर डॉयरेक्‍टर पर्सनल विभाग विक्रम बेदी कहते हैं कि एचपी डिजिटल इक्विटी को आगे बढ़ाने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं. उन्‍होंने कहा कि हम भारत में डिजिटल शिक्षा को पूरा करने के लिए कई तरह के प्रयास कर रहे हैं. उन्‍होंने कहा कि भारत में क्रोमबुक निर्माण से भारत में छात्रों को किफायती लैपटॉप प्राप्‍त हो सकेंगे. उन्‍होंने ये भी कहा कि हम अपने विनिर्माण इकाईयों का विस्‍तार करके भारत सरकार के मेक इन इंडिया कार्यक्रम को आगे बढ़ाने में अपनी भूमिका निभाएंगे. 

क्‍या बोले गूगल के साउथ एशिया प्रमुख? 
गूगल के साउथ एशिया प्रमुख बानी धवन ने इस मौके पर कहा कि हम स्‍थानीय शिक्षा में डिजिटल इंडिया अभियान को आगे बढ़ाते हुए सस्‍ते लैपटॉप मुहैया कराने में अपनी भूमिका निभाना चाहते हैं. हम स्‍कूलों को किफायती, सुरक्षित और हाई क्‍वॉलिटी वाले डिवाइस मुहैया कराकर छात्रों को बेहतर उपकरण देना चाहते हैं.  Chromebook K-12 शिक्षा में अग्रणी उपकरण है जो दुनियाभर में 50 मिलियन से अधिक छात्रों और शिक्षकों की मदद करता है. 


आखिर क्‍यों इस देश में इतना घूमने जा रहे हैं भारतीय? जानते हैं क्‍या है पूरा माजरा 

इस देश में जहां भारतीय पर्यटकों को वीजा ऑन अराइवल मिल जाता है वहीं सुंदर नजारे और सस्‍ता ट्रांसपोर्ट भी लोगों को खूब भा रहा है. 

Last Modified:
Friday, 17 May, 2024
BWHindia

भारत के टूरिस्‍ट को वापस बुलाने के लिए मालदीव लगातार कोशिश कर रहा है लेकिन इस बीच एक देश की यात्रा करने वाले भारतीय पर्यटकों की संख्‍या में 200 प्रतिशत से ज्‍यादा का इजाफा हुआ है. ये देश है वियतनाम. इस देश में पिछले साल से लेकर अब तक बड़ी संख्‍या में भारतीय सफर कर रहे हैं. इस देश में लोग इसलिए जा रहे हैं क्‍योंकि यहां की खुबसूरती से लेकर यहां की स्‍स्‍ती सुविधाएं भारत के लोगों को खूब भा रही हैं. 

आखिर क्‍या कह रहे हैं आंकड़े? 
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मास्‍टरकार्ड के इकोनॉमिक्‍स इंस्‍टीटयूट की रिपोर्ट बताती है कि वियतनाम जाने वाले लोगों की संख्‍या में 2019 से 248 प्रतिशत का इजाफा हुआ है. ऐसा नहीं है लोग वियतनाम ही नहीं जा रहे हैं बल्कि अमेरिका और जापान भी खूब जा रहे हैं. आंकड़े बता रहे हैं कि जापान जाने वालों की संख्‍या में 53 प्रतिशत और अमेरिका जाने वालों की संख्‍या में 59 प्रतिशत का इजाफा हुआ है. इस इंस्‍टीटयूट के विशेषज्ञ कहते हैं कि भारतीय इस समय सबसे ज्‍यादा इंटरनेशनल ट्रैवल कर रहे हैं. दुनिया के सभी बड़े डेस्टिनेशन के लिए भारत बेहतर सोर्स हो सकता है. 

ये भी पढ़ें: OPEN AI के सीईओ क्‍यों अपने इस इंडियन इंप्‍लॉय के हुए फैन, जानते हैं क्‍या है पूरा मामला?

अब समझिए क्‍यों जा रहे हैं वियतनाम? 
दरअसल भारतीयों के वियतनाम जाने की संख्‍या में जो 250 प्रतिशत से ज्‍यादा का इजाफा हुआ है उसके पीछे कई कारण हैं. सबसे विशेष कारण ये है कि वियतनाम के लिए भारत से सीधी फ्लाइट जाती है. जो एयरलाइन वहां के लिए सीधी फ्लाइट की सेवा मुहैया कराती हैं उनमें वियतजेट, एयर इंडिया, शामिल हैं. इस रूट पर जाने वाले लोगों की संख्‍या को देखते हुए कंपनियों ने इस पर एयरबस ए 350 जैसे आधुनिक एयरक्राफ्ट लगा दिए हैं. वियतनाम के हनोई और हो चिन्‍ह मिन्‍ह सिटी के रूट पर किराया भी काफी कम है. 

 टूरिस्‍ट प्‍लेस भी हैं काफी सस्‍ते 
जानकार कह रहे हैं कि वहां सस्‍ते से लेकर महंगे तक सभी तरह के विकल्‍प मिल जाते हैं. प्रकृति का आनंद भी वहां भरपूर लिया जा सकता है. सुंदर नजारे भारतीय पर्यटकों को खूब भा रहे हैं. अगर एक जगह से दूसरी जगह जाना हो तो उसके लिए टैक्‍सी भी काफी सस्‍ती मिल जाती है. भारतीयों के लिए अच्‍छी बात ये है कि वहां वीजा ऑन अराइवल भी मिल जाता है. इसलिए लोग वहां खूब जा रहे हैं और इन्‍जॉय कर रहे हैं.  


 


कर लीजिए पैसा कमाने की तैयारी, 22 मई को खुल रहा है 600 करोड़ा का IPO, बना देगा अमीर

IPO में 128 करोड़ रुपये के 33 लाख नए शेयर जारी होंगे. साथ ही 470.93 करोड़ रुपये के 1.23 करोड़ शेयरों का ऑफर फॉर सेल रहेगा. कंपनी की शुरुआत दिसंबर 2014 में हुई थी.

Last Modified:
Friday, 17 May, 2024
BWHindia

अगर आप IPO में पैसे लगाना पसंद करते हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है. कोवर्किंग स्पेस कंपनी Awfis Space Solutions का आईपीओ 22 मई, 2024 यानी मंगलवार को खुल रहा है. कंपनी इस इश्यू के जरिए 598.93 करोड़ रुपये जुटाने की कोशिश कर रही है. यह आईपीओ एंकर निवेशकों के लिए 21 मई को खुलेगा. अगर आप भी इस आईपीओ में निवेश करने के बारे में सोच रहे हैं तो हम आपको इसके डिटेल्स के बारे में जानकारी दे रहे हैं. 

33 लाख नए शेयर होंगे जारी

Awfis Space Solutions IPO में 128 करोड़ रुपये के 33 लाख नए शेयर जारी होंगे. वहीं 470.93 करोड़ रुपये के 1.23 करोड़ शेयरों का ऑफर फॉर सेल रहेगा. कंपनी के प्रमोटर अमित रमानी हैं. रमानी की कंपनी में फुली डायल्यूटेड बेसिस पर 18.19 प्रतिशत हिस्सेदारी है. दिग्गज वेंचर कैपिटल फर्म Peak XV Partners Investments V की 22.86 प्रतिशत, ChyrsCapital की यूनिट Bisque की 23.47 प्रतिशत, QRG Investments and Holdings की 9.58 प्रतिशत, VBAP Holdings की 9.35 प्रतिशत और दिग्गज इनवेस्टर आशीष कचोलिया की 5.01 प्रतिशत शेयरहोल्डिंग है.

इतने प्रतिशत तक गिर सकता है Vodafone Idea का शेयर, आपने तो नहीं लगाया है पैसा?

ये है IPO से जुड़ी जरूरी डेट्स

इस आईपीओ में निवेशक 22 से 27 मई के बीच निवेश कर सकते हैं. शेयरों का अलॉटमेंट 28 मई को किया जा सकता है. असफल निवेशकों को रिफंड 29 मई को प्राप्त होगा. सफल सब्सक्राइबर्स को शेयर 29 मई को खाते में क्रेडिट कर दिए जाएंगे. शेयरों की लिस्टिंग 30 मई को होगी. इस आईपीओ में कंपनी ने 75 फीसदी हिस्सा QIB, 10 फीसदी हिस्सा रिटेल निवेशकों और 15 फीसदी हिस्सा NII के लिए रिजर्व किया गया है. शेयरों की लिस्ट BSE और NSE पर 30 मई को होगी.

GMP दे रहा तगड़ी लिस्टिंग के संकेत

Awfis Space Solutions का आईपीओ खुलने से पहले ग्रे मार्केट में ट्रेंड कर रहा है. कंपनी के शेयर फिलहाल 80 रुपये की GMP पर बने हुए हैं. ऐसे में यह स्थिति लिस्टिंग के दिन तक बनी रहती है तो शेयर 20.89 फीसदी के प्रीमियम पर 383 रुपये प्रति शेयर पर लिस्ट हो सकते हैं. Awfis Space Solutions IPO के जरिए जुटने वाली रकम को अपने बिजनेस के विस्तार के लिए इस्तेमाल करेगी. इसके साथ ही कंपनी इस राशि का यूज कैपिटल जरूरतों और सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों को पूरा करने के लिए भी करेगी.

 

(डिस्क्लेमर: शेयर बाजार में निवेश जोखिम के अधीन है. 'BW हिंदी' इसकी कोई जिम्मेदारी नहीं लेता. सोच-समझकर, अपने विवेक के आधार पर और किसी सर्टिफाइड एक्सपर्ट से सलाह के बाद ही निवेश करें, अन्यथा आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है).


OPEN AI के सीईओ क्‍यों अपने इस इंडियन इंप्‍लॉय के हुए फैन, जानते हैं क्‍या है पूरा मामला?

पुणे के रहने वाले ओपन एआई में काम करने वाले प्रफुल्‍ल धारीवाल बचपन से ही बड़े होनहार रहे हैं. वो स्‍कूल से लेकर कॉलेज तक कई अवॉर्ड और स्‍कॉलरशिप जीत चुके हैं.

Last Modified:
Friday, 17 May, 2024
BWHindia

ओपन एआई इन दिनों में अपने न्‍यू वर्जन GPT-40 को लेकर चर्चा में हैं. इसी कड़ी में ओपन एआई के सीईओ सैम ऑल्‍टमैन ने पूणे के युवक की ऐसी तारीफ की है कि जो सुने वो दिवाना हो जाए. सैम ऑल्‍टमैन ने GPT-40 के सक्‍सेसफुल लॉन्‍च के लिए पुणे के रहने वाले प्रफुल्‍ल धारीवाल को श्रेय दिया है. प्रफुल्‍ल ने MIT से कंप्‍यूटर साइंस में स्‍नातक की डिग्री हासिल की है. 

प्रफुल्‍ल ने ट्वीट कर लिखी ये बात 
प्रफुल्‍ल ने ट्वीट कर लिखा कि, GPT-4o (o का मतलब ‘ओमनी’) ओमनी टीम से बाहर आने वाला पहला मॉडल है, ओपनएआई का पहला मूल रूप से पूरी तरह से मल्टीमॉडल मॉडल है. यह लॉन्च एक बहुत बड़ा संगठन-व्यापी प्रयास था, लेकिन मैं अपनी कुछ अद्भुत टीम के सदस्यों को धन्यवाद देना चाहता हूं जिन्होंने इस जादुई मॉडल को भी संभव बनाया!

ये भी पढ़ें: अब ONDC नेटवर्क में शामिल हुए कई Start-up,ऐसे अपनी पहुंच बढ़ाने की हो रही है तैयारी

उनके इस ट्वीट पर सैम ने दिया श्रेय 
सैम ऑल्‍टमैन ने प्रफुल्‍ल धारीवाल के ट्वीट पर अपनी बात कहते हुए कहा कि GPT-4o प्रफुल्‍ल धारीवाल की दूरदर्शिता, प्रतिभा, दृढ़ विश्वास और दृढ़ संकल्प के बिना नहीं हो पाता. मुझे आशा है कि इससे (कई अन्य लोगों के काम के साथ) हमारे कंप्यूटर के उपयोग में एक क्रांति आएगी. 

आखिर कौन हैं प्रफुल्‍ल धारीवाल? 
प्रफुल्‍ल धारीवाल ने कहा कि मैसाच्‍यूसेट इंस्‍टीट्यूट ऑफ टेक्‍नोलॉजी (MIT) से कंप्‍यूटर साइंस की पढ़ाई की हुई है. उन्‍होंने 2016 में ओपन एआई ज्‍वॉइन किया था. पहले उन्‍होंने ओपन एआई को रिसर्च इंटर्न के तौर पर ज्‍वॉइन किया लेकिन आज वो रिसर्च साइंटिस्‍ट हो चुके हैं. वो इससे पहले 2009 में भारत सरकार की राष्‍ट्रीय प्रतिभा खोज छात्रवृत्ति जीत चुके हैं. उन्‍होंने चीन में इंटरनेशनल खगोल विज्ञान ओलंपियाड भी जीता है. वो इससे पहले 2012 और 2013 अंतराष्‍ट्रीय गणितीय ओलंपियाड और अंतर्राष्‍ट्रीय  भौतिकी ओलंपियाड जीत चुके हैं. वो 2013 में भी पुरस्‍कार जीत चुके हैं. 


 


Electric Car प्रोडक्शन के लिए तैयार Mahindra, इतने हजार करोड़ रुपये का निवेश करेगी कंपनी

वित्त वर्ष 2023-24 चौथी तिमाही के रिजल्ट में अच्छे मुनाफे के बाद Mahindra ने अपनी EV यूनिट में 12 हजार करोड़ रुपये निवेश करने की घोषणा की है. 

Last Modified:
Friday, 17 May, 2024
BWHindia

भारतीय वाहन निर्माता कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा (Mahindra & Mahindra) ने अपने स्पोर्ट्स यूटिलिटी वाहनों (SUV) की स्थिर बिक्री पर चौथी तिमाही के मुनाफे के अनुमान को पार कर लिया है. ऐसे में अब कंपनी Electric Car प्रोडक्शन को लेकर एक बड़ी प्लानिंग कर रही है. इस प्रोजेक्ट में कंपनी हजारों करड़ों रुपये निवेश करने जा रही है. तो चलिए जानते हैं कंपनी की पूरी प्लानिंग? 

अगले साल लॉन्च होगी ईवी की नई रेंज
महिंद्रा ने अपने इलेक्ट्रिक व्हीकल्स ( EV) बिजनेस को बढ़ाने की योजना बनाई है. इसके लिए कंपनी अपनी EV यूनिट में लगभग 12 हजार करोड़ रुपये निवेश करेगी. कंपनी ने कहा कि वह अपने ईवी कार व्यवसाय से जुड़े कुछ एसेट्स को अपनी इलेक्ट्रिक यूनिट महिंद्रा इलेक्ट्रिक ऑटोमोबाइल को 7.96 अरब रुपये में बेचेगी. महिंद्रा वर्तमान में एक ईवी मॉडल- एक्सयूवी 400 पेश करती है. एक्सयूवी 400 का मुकाबला MG की ZS EV और Tata Motors की Nexon EV से होता है. इसमें इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी प्रोग्राम, टायर प्रेशर मॉनिटरिंग, क्रूज कंट्रोल और फॉग लैम्प जैसे फीचर्स दिए गए हैं. पिछले कुछ वर्षों में देश में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की बिक्री तेजी से बढ़ी है. वहीं, अब अगले साल तक कंपनी ईवी की अपनी नई रेंज लॉन्च करेगी. 

Scorpio और Thar जैसी एसयूवी का जलवा  
महिंद्रा का कार पोर्टफोलियो लगभग पूरी तरह से स्कॉर्पियो और थार जैसी एसयूवी है. कंपनी ने 1 साल पहले की तुलना में 31 मार्च तक 3 महीनों में 27.2 प्रतिशत अधिक एसयूवी बेची हैं. भारत में पैसेंजर व्हीकल्स (PV) की बिक्री में आधे से अधिक हिस्सा यूटिलिटी वाहनों (यूवी) का है, जो साल-दर-साल 31 प्रतिशत बढ़ रहा है, जबकि पिछले दो वित्तीय वर्षों में पीवी की बिक्री रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है.

इसे भी पढ़ें-इंडियन करेंसी को मजबूत करने के लिए RBI ने उठाया ये कदम, अब नहीं गिरेगा रुपया!
 

अनुमान से अधिक मिला प्रॉफिट
कंपनी का स्टैंडअलो प्रॉफिट 31.6 प्रतिशत बढ़कर 20.38 बिलियन रुपये ($244.06 मिलियन) हो गया था, जो एलएसईजी डेटा के अनुसार विश्लेषकों के 19.61 बिलियन रुपये के अनुमान से अधिक है. कंपनी का ऑटोमोटिव व्यवसाय का कुल रेवेन्यू लगभग दो-तिहाई है, जो 11.2 प्रतिशत बढ़कर 251.09 बिलियन रुपये हो गया, जो विश्लेषकों के 240.25 बिलियन रुपये के औसत अनुमान से अधिक है.

 


फुल कॉन्फिडेंस में वित्तमंत्री, कहा- फिर पीएम बनेंगे मोदी, जल्द शुरू होगा पूर्ण बजट का काम

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने सीआईआई समिट को संबोधित करते हुए कहा कि पीएम मोदी भारी बहुमत के साथ फिर से सत्ता में आ रहे हैं. उसके बाद पूर्ण बजट पर काम शुरू होगा.

Last Modified:
Friday, 17 May, 2024
BWHindia

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि भाजपा को भरोसा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारी बहुमत के साथ वापस आएंगे और सरकार गठन के तुरंत बाद 2024-25 के पूर्ण बजट पर चर्चा शुरू होगी. वित्त मंत्री ने CII के दो दिवसीय सालाना सम्‍मेलन को संबोधित करते हुए ये बात कहीं. इसके साथ ही उन्होंने देश की अर्थव्‍यवस्‍था को लेकर भी कई अहम बातें कहीं.

वैश्विक GDP में बढ़ेगा भारत का योगदान

केंद्रीय वित्त मंत्री ने व्यापार संगठन CII के सालाना कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था के रूप में उभरा है और अगले कुछ साल यही स्थिति बनी रहेगी. अपनी बात को पुख्ता करते हुए उन्होंने कहा कि IMF के अनुमान के अनुसार, अगले पांच साल में वैश्विक जीडीपी में भारत का योगदान 18 प्रतिशत होगा. उन्होंने कहा कि इस ऊंची विकास दर के पीछे बुनियादी वजह सरकारी नीतियों में स्थिरता और भ्रष्टाचार मुक्त निर्णय हैं जो बिना किसी शोर-शराबे के पर्दे के पीछे लिये जा रहे हैं.

Explainer: सोने का निखार तो समझ आता है, लेकिन चांदी क्यों दिखा रही है भाव?

मैन्युफैक्चरिंग हब बनने की ओर अग्रसर भारत

सीतारमण ने उम्मीद जताई कि भारत के पास अब भी अपनी मैन्युफैक्चरिंग क्षमता बढ़ाने का अवसर है क्योंकि दुनिया कोविड-19 वैश्विक महामारी के बाद 'चीन प्लस वन' रणनीति पर ध्यान दे रही है. 'कैपजेमिनी रिसर्च इंस्टीट्यूट' की मई में जारी रिपोर्ट का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि यूरोप और अमेरिका में सीनियर एग्जीक्यूटिव्स की निवेश स्थलों की लिस्ट में भारत टॉप पर है. ये लोग चीन पर अपनी निर्भरता कम करना चाहते हैं और अपनी मैन्युफैक्चरिंग क्षमता का कुछ हिस्सा उभरते बाजारों में शिफ्ट करना चाहते हैं. सर्वे में शामिल करीब 760 एग्जीक्यूटिव्स में से 65 प्रतिशत ने कहा कि वे भारत में उल्लेखनीय रूप से निवेश बढ़ाने की योजना बना रहे हैं.

PLI स्कीम आ रहा है बदलाव

वर्तमान में टेलिकॉम सेक्टर की PLI स्कीम ने भारत को बेहतर तरीके से आत्मनिर्भर बनने में मदद की है क्योंकि टेलिकॉम सेक्टर में 60 प्रतिशत इंपोर्ट सब्स्टीट्यूशन का लक्ष्य हासिल हो चुका है. वित्त मंत्री ने कहा, 'यह अपने आप में हमारे भारतीय उद्योग को काफी बड़ा स्कोप प्रदान करता है. PLI स्कीम मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक क्षेत्रों में भी बदलाव ला रही है, उन्होंने कहा कि 2014 तक भारत में बिकने वाले मोबाइल में से 78 प्रतिशत इंपोर्ट होते थे लेकिन आज भारत में बिकने वाले 99 प्रतिशत मोबाइल भारत में निर्मित हैं.
 


अब ONDC नेटवर्क में शामिल हुए कई Start-up,ऐसे अपनी पहुंच बढ़ाने की हो रही है तैयारी 

कई प्‍लेटफॉर्म को अपने मंच पर लाकर उन्‍हें एक बड़ा बाजार मुहैया करा चुके ONDC के साथ कई और स्‍टार्टअप जुड़ गए हैं. इनमें कोई गेमिंग सेक्‍टर से है तो कई ट्रैवल सेक्‍टर में काम करता है.  

Last Modified:
Friday, 17 May, 2024
BWHindia

अब तक कई कंपनियों को अपने नेटवर्क से जोड़ चुके ओएनडीसी ने अब स्‍टार्टअप को इससे जोड़ने की पहल शुरू की है. शुक्रवार को इस दिशा में कॉमर्स मिनिस्‍ट्री में आयोजित हुए एक कार्यक्रम में Ease My Trip, Winzo, Policy Bazaar, Paisa Bazaar, ShipRocket जैसी कई कंपनियां इसमें शामिल हुए. ONDC के साथ शामिल हुई इन कंपनियां अपने बाजार और क्‍लाइंट बेस को बढ़ाने के मकसद से इस प्‍लेटफॉर्म के साथ जुड़ी हैं. 

ONDC startup Mahotsav में शामिल हुए ये स्‍टार्टअप 

ओएनडीसी की ओर से आयोजित किए गए इस इवेंट में हाइब्रिड मोड से लगभग 5,000 स्टार्टअप्स शामिल हुए. इवेंट के दौरान स्टार्टअप्स, यूनिकॉर्न और ईजमाईट्रिप (Easemytrip), ऑफबिजनेस(OffBusiness), विंजो(WinZo), लिवस्पेस(Livspace), ग्लोबलबीज(Globalbees), प्रिस्टिन केयर(Pristincare), कार्स24(Cars24), फिजिक्स वाला (Physicswala), पॉलिसीबाजार(PolicyBazaar) और ज़ेरोधा(Zerodha) जैसे उच्च विकास व्यवसायों सहित 125 से अधिक पारिस्थितिकी तंत्र हितधारकों ने आशय पत्र (एलओआई) पर हस्ताक्षर किए. ये एलओआई ओएनडीसी की क्षमता और मंच के साथ सहयोग करने के लिए देश के अग्रणी स्टार्टअप की उत्सुकता को दर्शाते हैं.

DPIIT सचिव ने कही ये अहम बात 
कई स्‍टार्टअप के ONDC  के साथ हाथ मिलाने के DPIIT के सचिव राजेश कुमार सिंह ने कहा‍ कि ओएनडीसी और स्‍टार्टअप कम्‍यूनिटी के बीच हुए इस समझौते से दोनों पक्ष बेहद खुश हैं. आज के इस कार्यक्रम में इस बात को लेकर भी चर्चा हुई है कि आखिर कैसे स्‍टार्टअप ओएनडीसी के साथ मिलकर और बेहतर तरीके से काम कर सकते हैं. आज के इस कार्यक्रम में बड़ी संख्‍या में स्‍टार्टअप के फाउंडर, वीसी और प्रमोटर शामिल हुए हैं. आज कई प्रकार स्‍टार्टअप ने इसे लेकर अपने विजन के बारे में बताया है. आपने महसूस किया होगा कि सरकार की इस कोशिश को लेकर स्‍टार्टअप कम्‍यूनिटी के अंदर बेहद खुशी थी. आज हमने जितनी उम्‍मीद की थी उससे ज्‍यादा लोगों ने अपनी भागीदारी दिखाई है. आज 12 यूनीकॉर्न ने लेटर ऑफ इंटेट साइन किया है.

ये भी पढ़ें: TCS, Infosys के बाद इस कंपनी ने अपने कर्मचारियों को दिया नोटिस, नहीं लौटे तो होगी छुटटी

ONDC के सीईओ ने कही ये बात 
कई स्‍टार्टअप के ONDC नेटवर्क के साथ जुड़ने के करार के बाद ONDC सीईओ टी कोशी ने कहा कि आज देश में टियर 2 टियर 3 शहरों से हमें बेहतरीन रिस्‍पांस मिल रहा है. 60 से 66 प्रतिशत तक मोबिलिटी हमें इन शहरों से देखने को‍ मिल रही है. उन्‍होंने कहा कि जब भी कोई नया आईडिया आता है तो उसे सभी नहीं अपनाते हैं. लेकिन हम मानते हैं कि हमारा आईडिया पूरी तरह से कामयाब होगा. 

WINZO के को फाउंडर ने कही ये बात 
WinZO के सह-संस्थापक पवन नंदा ने इस साझेदारी के बाद कहा कि मौजूदा डिजिटल युग (Digital Era) में, इनोवेशन को लोकतांत्रिक बनाना एंटरप्राइजेस के आने वाले कल की सफलता की कुंजी है. जिस तरह यूपीआई ने 2018 में भुगतान में क्रांति ला दी और हमारी जैसी कंपनियों को उभरने में मदद की और 175 मिलियन गेमर्स तक पहुंचने के लिए माध्‍यम बनी.  WinZO और ONDC की पार्टनरशिप के साथ  हम एक ऐसे भविष्य की कल्पना कर सकते हैं जहां कई और WinZO उभरेंगे और इस प्‍लेटफॉर्म पर इनोवेशन करेंगे. 
 


इंडियन करेंसी को मजबूत करने के लिए RBI ने उठाया ये कदम, अब नहीं गिरेगा रुपया!

आरबीआई रुपये पर दबाव को कम करने के लिए अमेरिकी डॉलर बेच रहा है. इन्हें सरकारी बैंकों के माध्यम से बेचा जाएगी.

Last Modified:
Friday, 17 May, 2024
BWHindia

पिछले कुछ कारोबारी सत्र से डॉलर के मुकाबले रुपये में कमजोरी देखी जा रही है. अब भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने अपनी करेंसी को सपोर्ट देने के लिए एक नया कदम उठा रहा है. तो चलिए जानते हैं आरबीआई ऐसा क्या कदम उठाने जा रही है, जिससे रुपये में आ रही गिरावट को रोका जा सकेगा?

रुपये को मजबूत करने के लिए डॉलर की सेल

जानकारी के अनुसार आरबीआई रुपये पर दबाव को कम करने के लिए अमेरिकी डॉलर बेच रहा है. इससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि निकट अवधि के दौरान रुपये में कोई बड़ी गिरावट नहीं देखने को मिलेगी. इसका रुपये पर कुछ असर भी दिख रहा है। शुक्रवार के कारोबारी सत्र में 1 डॉलर का मुकाबला रुपया 83.48 के स्तर पर खुला और 83.33 पर बंद हुआ, जबकि पिछले कारोबारी सत्र में यह 83.50 के स्तर पर बंद हुआ था।. इसका मतलब कि पिछले कारोबारी सत्र की तुलना में इसमें कोई खास बदलाव नहीं हुआ और यह तकरीबन जस का तस ही खुला.

क्यों आई गिरावट?
पिछले कुछ समय से भारत के इक्विटी मार्केट में लगातार बिकवाली हो रही है. विदेशी निवेशक लोकसभा चुनाव के हुई कम वोटिंग जैसी चिंताओं के चलते मार्केट से अपने शेयर बेच रहे हैं. हालांकि, घरेलू संस्थागत निवेशक का जोर खरीदारी पर ही है. फिर भी इक्विटी मार्केट में अस्थिरता काफी बढ़ गई है. वहीं, लोकल इंपोर्टर्स की ओर से डॉलर की मांग भी तेजी से बढ़ रही है. इन सबके चलते रुपये पर काफी दबाव था और उसकी कीमत लगातार घट रही थी. यही, कारण है कि आरबीआई को डॉलर बेचने जैसा एहतियाती कदम उठाना पड़ा.

इसे भी पढ़ें-अब पूरी तरह से गायब हुआ Twitter, Elon Musk ने बदला वेबसाइट का एड्रेस

नहीं आएगी रुपये में गिरावट

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आरबीआई सरकारी बैंकों के माध्यम से यह 83.50 रुपये के स्तर पर डॉलर बेच रहा है. एक्सपर्ट्स के अनुसार आरबीआई जिस तरीके से रुपये का बचाव कर रहा है, उससे नहीं लगता कि निकट अवधि में रुपये में कोई बड़ी गिरावट आने वाली है.


इतने प्रतिशत तक गिर सकता है Vodafone Idea का शेयर, आपने तो नहीं लगाया है पैसा?

एक घरेलू ब्रोकरेज फर्म का अनुमान है कि वोडाफोन आइडिया के शेयरों में गिरावट देखने को मिल सकती है.

Last Modified:
Friday, 17 May, 2024
BWHindia

टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया (Vodafone Idea) के शेयर आज यानी शुक्रवार को भले ही बढ़त के साथ कारोबार कर रहे हों, लेकिन इनमें करीब 25 प्रतिशत तक की गिरावट की आशंका जताई जा रही है. एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज ने अपनी हालिया रिपोर्ट में अनुमान जताया है कि Voda-Idea के शेयर मौजूदा स्तर से लुढ़क सकते हैं. इसके साथ ही ब्रोकरेज फर्म ने स्टॉक बेचने की सलाह दी है. 

कंपनी का घाटा बढ़ा
ब्रोकरेज फर्म का यह अनुमान ऐसे समय में सामने आया है जब वोडाफोन आइडिया का शुद्ध घाटा मार्च तिमाही में बढ़कर 7,674 करोड़ रुपए पहुंच गया है. इसके पहले के वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी को 6,418.9 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था. हालांकि, कंपनी का रिवेन्यु मार्च तिमाही में मामूली बढ़त के साथ 10,606 करोड़ रुपए रहा है. कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज ने कंपनी के वित्तीय परिणामों से पहले जारी अपने रिपोर्ट में कहा था कि वोडाफोन आइडिया का शेयर एक जोखिम भरा दांव दिखाई दे रहा है. 

कब बेहतर हो सकती है स्थिति?
ब्रोकरेज फर्म ने कहा था कि सरकारी की तरफ से अतिरिक्त राहत मिलने, प्रतियोगिता में कमी आने और सब्सक्राइबर्स की घटती संख्या पर रोक लगने के बाद ही वोडा-आइडिया के लिए चीजें बेहतर हो सकती हैं. रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि वोडाफोन आइडिया को हालिया फंडिंग से बाजार में टिके रहने में मदद मिलेगी, लेकिन फिलहाल सब्सक्राइबर्स की संख्या में बढ़ोतरी का अनुमान कम है. कोटक ने कंपनी के शेयर पर 'Sell' रेटिंग बरकरार रखते हुए इसका टार्गेट प्राइज 10 रुपए तय किया है. 

हाई रिस्क-हाई रिवॉर्ड
फर्म के अनुसार, हमारे आउटलुक एनालिसिस में वोडाफोन आइडिया एक हाई रिस्क-हाई रिवॉर्ड वाला शेयर साबित हुआ है. तेजी के मामले में यह 23 रुपए तक जा सकता है, जबकि गिरावट की स्थिति में इसके 7 रुपए तक जाने की भी आशंका है. हालांकि इसकी फेयर वैल्यू हमने 10 रुपए आंकी है. कंपनी के शेयर आज एक प्रतिशत से अधिक की बढ़त के साथ 13.30 रुपए पर कारोबार कर रहे हैं. पिछले 5 दिनों में ये शेयर 5.98% चढ़ा है जबकि इस साल अब तक इसमें 21.76% की गिरावट भी आई है. 


10 रुपए से कम के इन 10 शेयरों ने दिखाया दम, क्या आपके पास है कोई?

पेनी स्टॉक्स में निश्चित तौर पर जोखिम ज्यादा रहता है, लेकिन कम कीमत के चलते यह लोगों को आकर्षित भी करते हैं.

Last Modified:
Friday, 17 May, 2024
BWHindia

शेयर बाजार (Stock Market) में कब कौनसा शेयर आसमान पर पहुंच जाए और कब कौनसा शेयर आसमान से जमीन पर आ जाए नहीं कहा जा सकता. मार्केट हर दिन कुछ न कुछ सरप्राइज देता रहता है. हालांकि, पर्याप्त रिसर्च और समझदारी से किया गया निवेश प्रॉफिट भी कमाकर देता है. यहां हम आपको 10 रुपए से कम कीमत वाले ऐसे 10 शेयरों के बारे में बता रहे हैं, जो अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं.

पहला नाम है Sarveshwar Foods
Penny Stocks की इस लिस्ट में पहला नाम है Sarveshwar Foods का. 1890 में स्थापित इस कंपनी का शेयर आज यानी 17 मई को भले ही गिरावट के साथ कारोबार कर रहा है, लेकिन इसका इस साल अब तक का रिकॉर्ड अच्छा रहा है. फिलहाल 9.45 रुपए के भाव पर मिल रहा कंपनी क स्टॉक बीते 5 दिनों में करीब 12% और 2024 में अब तक 61.54% का शानदार रिटर्न दे चुका है. इसी तरह, Bhandari Hosiery Exports ने शेयर ने इस साल अब तक 24.22% का रिटर्न दिया है. आज भी यह बढ़त के साथ 7.95 रुपए पर ट्रेड कर रहा है.

5 दिनों में 20.26% का रिटर्न
Mittal Life Style का शेयर कल 1.75 रुपए में उपलब्ध है. आज इसमें करीब 3 प्रतिशत का उछाल आया है और पिछले 5 सत्रों में यह 12.90% चढ़ा है. एक रिपोर्ट के अनुसार, इस कंपनी का मार्केट कैप 50.31 करोड़ रुपए है. नोएडा की कंपनी FCS Software Solutions के शेयर आज ग्रीन लाइन पकड़कर कारोबार कर रहे हैं. खबर लिखे जाने तक इसमें करीब 3% की तेजी आ चुकी थी. 3.90 रुपए के भाव वाले इस शेयर ने पिछले छह महीने में 36.84% का रिटर्न दिया है. इसी तरह, 1991 में स्थापित Prakash Steelage Limited का शेयर आज दोपहर 1 बजे तक करीब 5 प्रतिशत की उछाल के साथ 9.20 रुपए पर पहुंच गया था. पिछले 5 दिनों में इसने 20.26% का रिटर्न दिया है. हालांकि, इस साल अब तक इसमें 8.91% की गिरावट भी देखने को मिली है. 

निवेशकों के चेहरे पर मुस्कान
इस लिस्ट में अगला नाम है Sunshine Capital Ltd. दिल्ली की इस कंपनी ने अपने निवेशकों के चेहरे पर मुस्कान बिखेर दी है. 3.62 रुपए के भाव पर मिल रहे इस शेयर ने इस साल अब तक 194.31% का शानदार रिटर्न दिया है और बीते 5 कारोबारी सत्रों में भी इसका रिकॉर्ड अच्छा है. Empower India के शेयर में आज भले ही नरमी का रुख है, लेकिन 2024 में अब तक यानी जनवरी से लेकर 17 मई तक इसने 45.40% का रिटर्न दिया है. Rhetan TMT Ltd. गुजरात की एक स्टील कंस्ट्रक्शन कंपनी है, जिसका मार्केट कैप 1,027.17 करोड़ रुपए है. इसका शेयर इस साल अब तक 36.57% का रिटर्न दे चुका है. हालांकि, इसकी कीमत 10 रुपए से बढ़कर अब 13.63 रुपए हो चुकी है. 

अब ग्रीन लाइन पर लौटे
Debock Industries के शेयर पिछले 5 दिनों से हरे निशान पर दिखाई दे रहे हैं. इस दौरान इन्होंने करीब 4 प्रतिशत का उछाल देखा है. Diligent Media Corporation के शेयर का भी यही हाल है. 4.25 रुपए की कीमत वाला ये स्टॉक आज तेजी के साथ कारोबार कर रहा है और बीते 5 सत्रों में इसने 4.94% का रिटर्न दिया है. BW हिंदी यह स्पष्ट करना चाहता है कि यहां बताए गए शेयरों का जिक्र लेवल जानकारी के लिए किया गया है. इसे निवेश की सलाह के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए.   

(डिस्क्लेमर: शेयर बाजार में निवेश जोखिम के अधीन है. 'BW हिंदी' इसकी कोई जिम्मेदारी नहीं लेता. सोच-समझकर, अपने विवेक के आधार पर और किसी सर्टिफाइड एक्सपर्ट से सलाह के बाद ही निवेश करें, अन्यथा आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है).


TCS, Infosys के बाद इस कंपनी ने अपने कर्मचारियों को दिया नोटिस, नहीं लौटे तो होगी छुटटी

दरअसल इससे पहले कंपनी का एचआर कर्मचारियों को मौखिक रूप से ये कह चुका है कि अगर उनके प्रोजेक्‍ट के लिए उनकी जरूरत ऑफिस में है तो उन्‍हें आना चाहिए. 

Last Modified:
Friday, 17 May, 2024
BWHindia

कोविड के बाद बीमारी को लेकर भले ही हालात सही हो गए हों लेकिन आईटी सेक्‍टर में सबकुछ सही नहीं हुआ है. कोविड के दौरान शुरू हुआ वर्क फ्रॉम होम कर्मचारियों को कुछ ऐसा भा रहा है कि कंपनियों के द्वारा कई नोटिस देने के बावजूद Employee लौटने का नाम नहीं ले रहे हैं. अब इसी कड़ी में आईटी सेक्‍टर की बड़ी कंपनी Cognizant ने अपने कर्मचारियों को आखिरी चेतावनी दे दी है कि अगर वो ऑफिस नहीं लौटे तो उन्‍हें नौकरी से निकाल दिया जाएगा. 

नौकरी से निकाल दिए जाएंगे कर्मचारी 
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, Congnizant अपने कर्मचारियों को लगातार मौखिक और मेल के जरिए सूचित कर चुकी है कि उन्‍हें हफ्ते में तीन दिन ऑफिस आना चाहिए. लेकिन इस बार कंपनी की ओर से अपने कर्मचारियों को कहा गया है कि उन्‍हें पूरी तरह से ऑफिस आकर काम करना होगा. अगर अब भी कर्मचारी ऑफिस आकर काम नहीं करेंगे तो उन्‍हें नौकरी से निकाला जा सकता है. इससे पहले टीसीएस, विप्रो, इंफोसिस जैसी कंपनिया भी अपने कर्मचारियों को इसी तरह का निर्देश जारी कर चुकी हैं. 

ये भी पढ़ें: अब UN ने कहा और बेहतर हो रही है भारत की आर्थिक हालत, 2025 में इतनी रह सकती ग्रोथ रेट

क्‍या कहता है कंपनी का नोटिस? 
Congnizant ने अपने कर्मचारियों को जो मेल भेजा है उसमें कहा गया है कि बार-बार याद दिलाने के बावजूद अगर कर्मचारी ऑफिस आकर काम नहीं करेंगे तो उन्‍हें नौकरी से निकाल दिया जाएगा. मौजूदा समय में Congnizant के भारत और पूरी दुनिया में 3,47,700 कर्मचारी हैं जबकि अकेले भारत में कंपनी के 2,50 लाख कर्मचारी है. मीडिया रिपोर्ट का कहना है कि कंपनी की ओर से मौखिक तौर पर कहा गया है कि अगर किसी प्रोजेक्‍ट में कर्मचारियों को ऑफिस आकर काम करने की जरूरत है तो उन्‍हें करना चाहिए. वहीं कर्मचारियों का कहना है कि ऑफिस लौटने की कोई विशेष तारीख नहीं दी गई थी क्‍योंकि ये प्रोजेक्‍ट की जरूरत पर निर्भर करता है. 

कई दूसरी कंपनियां दे चुकी हैं ऐसा नोटिस
ऐसा नहीं है अकेली Cognizant वो कंपनी है जिसने ऑफिस आने को लेकर अपने कर्मचारियों को इस तरह का नोटिस जारी किया हो. इससे पहले भारत की आईटी कंपनियां विप्रो, इंफोसिस, टीसीएस जैसी कंपनियां भी अपने कर्मचारियों को ऑफिस बुलाने के लिए इस तरह का नोटिस जारी कर चुकी हैं. हालांकि कंपनियों को काफी हद तक अपने कर्मचारियों को ऑफिस बुलाने में कामयाबी हासिल हुई है. वर्ष 2023 में कंपनियों में अब बड़े पैमाने पर कर्मचारी ऑफिस आ रहे हैं. हालांकि कई कंपनियां फिलहाल हफ्ते में 3 दिन ही ऑफिस बुला रही हैं.