सबसे बड़ा सवाल: क्या 22 जनवरी के ऐतिहासिक दिन बैंकों में भी रहेगी छुट्टी?

अयोध्या में राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के मौके पर कुछ राज्यों ने सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की है. जबकि केंद्र सरकार के कार्यालयों में आधे दिन की छुट्टी रहेगी.

Last Modified:
Friday, 19 January, 2024
file photo

अयोध्या में राम मंदिर (Ayodhya Ram Mandir) की प्राण प्रतिष्ठा वाले दिन यानी 22 जनवरी को क्या बैंकों की भी छुट्टी (Bank Holiday) रहेगी? इसे लेकर अब तस्वीर स्पष्ट हो गई है. केंद्र सरकार की तरफ से अपने कर्मचारियों की आधे दिन की छुट्टी की जो घोषणा की गई है, उसमें बैंक कर्मचारी भी शामिल हैं. यानी 22 जनवरी को बैंकों से जुड़े कामकाज दोपहर 2:30 बजे के बाद ही शुरू होंगे. बता दें कि कुछ राज्यों ने इस ऐतिहासिक मौके पर सार्वजनिक अवकाश घोषित किया है. इसके बाद केंद्र सरकार की तरफ से गुरुवार को पूरे देश में आधे दिन की छुट्टी का ऐलान किया गया.  

पूरी तरह साफ हुई तस्वीर 
केंद्र सरकार की तरफ से कहा गया है कि अयोध्या में 22 जनवरी को राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के मौके पर सभी केंद्रीय सरकारी कार्यालय आधे दिन के लिए बंद रहेंगे. दोपहर 2:30 बजे तक केंद्रीय सरकारी कार्यालयों में कामकाज नहीं होगा. इसमें सार्वजनिक क्षेत्र के सभी बैंक और बीमा कंपनियां भी शामिल हैं. पहले यह स्पष्ट नहीं था कि बैंकों में छुट्टी रहेगी या नहीं, लेकिन अब तस्वीर पूरी तरह साफ हो गई है. लिहाजा, यदि 22 जनवरी को आपका बैंक से जुड़ा कोई काम हो, तो ढाई बजे के बाद ही जाएं. 

ये भी पढ़ें - Ayodhya Ram Mandir के निर्माण पर सरकार ने कितना किया खर्चा? Yogi ने दिया जवाब

इधर, इस शेयर ने काटा गदर  
वहीं, अयोध्या से जुड़ी एक कंपनी का शेयर बाजार में धूम मचा रहा है. पैका लिमिटेड (Pakka limited) के शेयर गुरुवार को 12.54% की बढ़त के साथ 323 रुपए पर बंद हुए थे. पैका लिमिटेड इको-फ्रेंडली दोना-पत्तल बनाती है. कंपनी द्वारा शुगरकेन पल्प यानी गन्ने की खोई से इन दोना-पत्तल का निर्माण किया जाता है. राम मंदिर ट्रस्ट ने पैका लिमिटेड से साझेदारी की है. जिसके तहत राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में पैका लिमिटेड के बनाए इको-फ्रेंडली दोना-पत्तल में ही भक्तों को प्रसाद एवं खाना मिलेगा. अयोध्या से इस कनेक्शन के चलते कंपनी के शेयरों में लगातार तेजी आ रही है. बीते 5 कारोबारी सत्रों में ही ये शेयर 32.73% ऊपर चढ़ चुका है. जबकि पिछले एक साल में इसने अपने निवेशकों को 158.30% का रिटर्न दिया है.


जानें कहां होगा पुणे म्यूजिक फेस्टिवल? Exhicon ने की महत्वपूर्ण घोषणा

पुणे स्थित ब्लू रिज में पुणे म्यूजिक फेस्टिवल के साथ पाइनवुड्स गोल्फ क्लब का उद्घाटन होगा. इससे लोगों को एक ही जगह पर संगीत के साथ लग्जरी का अनुभव मिलेगा.

बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो by
Published - Thursday, 29 February, 2024
Last Modified:
Thursday, 29 February, 2024
exhicon

महाराष्ट्र के पुणे स्थित ब्लू रिज में पुणे म्यूजिक फेस्टिवल का भव्य आयोजन होगा. गुरुवार को एक्जिकॉन इवेंट्स मीडिया सॉल्यूशंस लिमिटेड (Exhicon) ने इसकी घोषणा की है. यह रणनीतिक स्थानांतरण कंपनी द्वारा हाल ही में पाइनवुड्स गोल्फ क्लब (Pineswoods golf club) के अधिग्रहण के साथ हुआ. इवेंट मैनेजमेंट कंपनी ने कहा है कि पुणे म्यूजिक फेस्टिवल के दिन पाइनवुड्स गोल्फ क्लब का उद्घाटन होना एक महत्वपूर्ण घटना है. इससे कंपनी को काफी लाभ होगा.

फेस्टिवल में मनोरंजन के साथ लग्जरी का अनुभव

पाइनवुड्स गोल्फ क्लब लग्जरी, एक्सक्लुजिविटी और एलीगेंस का प्रतीक है, जो पुणे में एक ऐतिहासिक लैंडमार्क बनने के लिए तैयार हो गया है. यह प्रतिष्ठित जगह म्यूजिक फेस्टिवल में एक नया आयाम जोड़ेगी, जो संगीत के दीवानों को मनोरंजन के साथ आनंद की प्राप्ति कराएगा. मनोरंजन और लग्जरी के  मिश्रण के साथ इस तरह का यह पहला म्यूजिक फेस्टिवल होगा.

एक्जिकॉन के रेवेन्यू का माध्यम भी बनेगा म्यूजिक फेस्टिवल

हाल ही में बुकमायशो की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि देश में म्यूजिक फेस्टिवल की लोकप्रियता बढ़ रही है. खासकर युवा वर्ग म्यूजिक से जुड़े कार्यक्रमों का हिस्सा बनते हैं. इसी के अनुरूप एक्जिकॉन का लक्ष्य म्यूजिक फेस्टिवल की दुनिया में एक नया मानदंड स्थापित करना है. यह लग्जीरियस जीवनशैली के अनुभवों के साथ मनोरंजन को जोड़ने के लिए एक्जिकॉन की रणनीतिक दृष्टि का एक हिस्सा है. एक्जिकॉन इवेंट्स मीडिया सॉल्यूशंस ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा है कि पाइनवुड्स गोल्फ क्लब के उद्घाटन के साथ म्यूजिक फेस्टिवल का आयोजन उनकी कंपनी के रेवेन्यू में बढ़ोतरी का माध्यम बनेगा.


प्‍याज की बढ़ती कीमत से मिली राहत, एक बयान से कम हुए प्रति क्विंटल 150 रुपये

प्‍याज के एक्‍सपोर्ट की तारीख को आगे ना बढ़ाये जाने के कारण मंडी में भाव बढ़ गए थे. इस बीच केन्‍द्रीय राज्‍य मंत्री के बयान ने इसे और कंफर्म कर दिया था. 

बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो by
Published - Wednesday, 21 February, 2024
Last Modified:
Wednesday, 21 February, 2024
Onion Price

प्‍याज के दामों में आई बढ़ोतरी के बाद अब सरकार ने इसे लेकर कदम उठा लिया है. सरकार ने कहा है कि प्‍याज के एक्‍सपोर्ट पर बैन 31 मार्च तक जारी है. सरकार के इस बयान के आते ही प्‍याज की कीमतों में 150 रुपये प्रति क्विंटल तक की कमी देखने को मिल रही है. प्‍याज के एक्‍सपोर्ट पर बैन को खत्‍म किए जाने की खबर के बाद नासिक की सबसे बड़ी लासलगांव मंडी में प्‍याज के दामों में 40 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी हो गई थी, जिससे बाजार में प्‍याज के दामों में इजाफा हो गया था. 

सरकार की ओर से दिया गया क्‍या बयान? 
प्‍याज की कीमतों में इजाफे के बाद उपभोक्‍ता मामलों के सविच रोहित कुमार सिंह ने कहा कि प्‍याज के एक्‍सपोर्ट पर जो बैन लगाया गया था उसे अभी हटाया नहीं गया है. उन्‍होंने स्‍पष्‍ट किया कि सरकार के लिए देश के घरेलू उपभोक्‍ता ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण हैं और वो उनके हितों का ध्‍यान रखती है. उन्‍होंने कहा कि प्‍याज पर एक्‍सपोर्ट 31 मार्च तक जारी है. सरकार ने ये कदम 7 दिसंबर को उठाया था क्‍योंकि उस वक्‍त भी प्‍याज की कीमतों में इजाफा हो गया था. ऐसे में लोगों को महंगाई से राहत देने के लिए सरकार की ओर से ये कदम उठाया गया. 

150 रुपये प्रति क्विंटल तक कम हुए दाम 
उपभोक्‍ता मामलों के सचिव रोहित कुमार के बयान का असर तुरंत मंडियो में देखने को मिला. प्‍याज का होलसेल रेट जो 1250 रुपये से 1800 रुपये तक जा पहुंचा था उसमें 150 रुपये प्रति क्विंटल की कमी देखने को मिल रही है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार,  इस मामले में लासलगांव मंडी के चेयरमैन ने कहा कि पिछले हफ्ते दामों में इजाफा देखने को मिला था लेकिन एक्‍सपोर्ट पर बैन की तारीख के नजदीक आने के कारण दाम स्थिर हो गए थे. 

एक बयान से बढ़ भी गए थे दाम 
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, केन्‍द्रीय राज्‍य मंत्री भारती पंवार ने बयान दिया था कि सरकार ने प्‍याज के एक्‍सपोर्ट पर बैन हटाने का निर्णय लिया है. उनके इस बयान के बाद दामों में इजाफा देखने को मिला था. उनके इस बयान के मीडिया में आते ही दामों में 40 प्रतिशत तक का इजाफा देखने को मिला था. लेकिन जैसे ही इस मामले में सरकार की ओर से स्थिति क्लियर हुई तो अब उम्‍मीद जताई जा रही है कि आने वाले दिनों में प्‍याज के दाम कम हो जाएंगे.

ये भी पढ़ें: देश में शुरू हुआ सोलर बिजली उत्‍पादन, इस समूह के प्‍लांट से जगमगाएंगे 1.5 करोड़ घर
 


प्याज से प्यार की ज्यादा कीमत चुकाने को रहें तैयार, मंत्री के एक बयान से चढ़ गए दाम

आने वाले दिनों में आपके लिए प्याज खरीदना महंगा हो सकता है. इसकी खुदरा कीमतों में इजाफे की आशंका है.

बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो by
Published - Tuesday, 20 February, 2024
Last Modified:
Tuesday, 20 February, 2024
file photo

कुछ वक्त पहले खाने का स्वाद बढ़ाने वाली प्याज लोगों के आंसुओं की वजह बन गई थी. प्याज के दामों में आई गजब की तेजी ने लोगों को परेशान कर दिया था. अब फिर वही दौर लौट सकता है. आने वाले दिनों में प्याज की कीमतों में वृद्धि हो सकती है. क्योंकि महाराष्ट्र के प्रसिद्ध लासलगांव कृषि उपज बाजार समिति (एपीएमसी) में प्याज की औसत थोक कीमतें सोमवार को ही 40% तक चढ़ गईं. इसकी वजह केंद्र सरकार के एक मंत्री के बयान को बताया जा रहा है.

क्या कहा मंत्री पवार ने?
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, केंद्र सरकार में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री और महाराष्ट्र के डिंडोरी (नासिक ग्रामीण) से सांसद डॉ. भारती पवार ने हाल ही में बताया था कि प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध हटने वाला है. उन्होंने बताया था कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अगुवाई में बीते दिनों मंत्रियों के एक समूह की बैठक हुई थी, जिसमें प्याज के निर्यात पर लगे प्रतिबंध को वापस लेने का फैसला हुआ. हालांकि, अभी तक इस बारे में कोई अधिसूचना जारी नहीं हुई है. पवार के इस बयान के बाद से प्याज की कीमतों में तेजी देखी जा रही है.  

निर्यातक कर रही खरीदारी
APMC के एक अधिकारी ने बताया कि डॉ. भारती पवार की जानकारी के बाद देश के सबसे बड़े थोक प्याज बाजार लासलगांव में औसत कीमतों पर प्रभाव पड़ा. लासलगांव में प्याज की औसत कीमतें शनिवार को 1,280 रुपए प्रति क्विंटल थीं, जो सोमवार को बढ़कर 1800 रुपए प्रति क्विंटल पहुंच गईं. सोमवार को प्याज का न्यूनतम और अधिकतम थोक मूल्य क्रमशः 1000 और 2,100 रुपए प्रति क्विंटल दर्ज किया गया. इस बीच, प्याज निर्यातकों ने विदेशी बाजारों में बेचने के लिए प्याज खरीदना शुरू कर दिया है. 

प्रतिबंध से मिला फायदा
सरकार ने घरेलू बाजार में प्याज का दाम स्थिर रखने के लिए पिछले साल 7 दिसंबर को हर तरह के प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने का फैसला लिया था. यह प्रतिबंध 31 मार्च, 2024 तक जारी रहना था. सरकार के इस कदम के बाद पिछले ढाई महीनों में ही प्याज की औसत थोक कीमत 67% कम हो गई थी. पिछले साल 6 दिसंबर को ये कीमत 3950 रुपए प्रति क्विंटल थी, जो कि 17 फरवरी को 1280 रुपए प्रति क्विंटल पहुँच गई थी, लेकिन प्रतिबंध हटने की खबर के साथ ही प्याज के दाम फिर से बढ़ने लगे हैं.
 


Paytm को लेकर RBI ने दिए आपके मन में चल रहे सवालों के जवाब? जान लीजिए क्‍या हैं ये

पेटीएम पर हुई कार्रवाई के बाद से लगातार लोगों के मन में पेमेंट बैंक और वॉलेट को लेकर कई सवाल चल रहे हैं. आरबीआई ने उन्‍हीं सवालों के जवाब देने की कोशिश की है.

बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो by
Published - Friday, 16 February, 2024
Last Modified:
Friday, 16 February, 2024
RBI

पेटीएम पेमेंट बैंक पर रोक लगाए जाने के बाद इसे इस्‍तेमाल करने वाले लोगों के मन में कई सवाल चल रहे हैं. इन सभी समस्‍याओं को लेकर आरबीआई की ओर से 14 सवालों के जवाब दिए गए हैं जो ज्‍यादातर लोग जानना चाह रहे हैं. इसमें पेटीएम बैंक के एटीएम कार्ड के इस्‍तेमाल से लेकर उसमें 15 मार्च के बाद पैसे जमा करने जैसे कई सवाल हैं. आइए जानते हैं क्‍या हैं ये सवाल और क्‍या हैं इनके जवाब? 

सवाल नंबर 1 : मेरा पेटीएम पेमेंट्स बैंक में बचत या चालू खाता है. क्या मैं 15 मार्च 2024 के बाद भी इस खाते से पैसे निकाल पाउंगा. क्या मैं पेटीएम पेमेंट्स बैंक द्वारा जारी अपने डेबिट कार्ड का उपयोग जारी रख सकता हूं?
जवाब: हाँ. आप अपने खाते में उपलब्ध शेष राशि तक अपने खाते से धनराशि का उपयोग, निकासी या हस्तांतरण जारी रख सकते हैं. इसी प्रकार, आप अपने खाते में उपलब्ध शेष राशि तक धनराशि निकालने या स्थानांतरित करने के लिए अपने डेबिट कार्ड का उपयोग जारी रख सकते हैं. 

सवाल नंबर 2 मेरे पास पेटीएम पेमेंट्स बैंक में एक बचत बैंक या चालू खाता है. क्या मैं 15 मार्च 2024 के बाद इस खाते में पैसे जमा या ट्रांसफर कर पाउंगा?
जवाब: नहीं, 15 मार्च 2024 के बाद आप अपने खाते में पैसा जमा नहीं कर पाएंगे. कैशबैक, साझेदार बैंकों से स्वीप-इन या रिफंड को को ट्रांसफर करने की अनुमति के अलावा ना ही निकाल पाएंगे और ना ही जमा कर पाएंगे. पेटीएम पेमेंट्स बैंक में खाता। ब्याज के अलावा कोई क्रेडिट या जमा नहीं. 

सवाल नंबर 3 मैं 15 मार्च, 2024 के बाद पेटीएम पेमेंट्स बैंक में अपने खाते में रिफंड की उम्मीद कर रहा हूं. क्या यह रिफंड मेरे खाते में जमा किया जा सकता है?
जवाब: हाँ. 15 मार्च, 2024 के बाद भी आपके खाते में रिफंड, कैशबैक, साझेदार बैंकों से स्वीप-इन या ब्याज की अनुमति है. 

सवाल नंबर 4 : 15 मार्च 2024 के बाद 'स्वीप इन/आउट' व्यवस्था के तहत साझेदार बैंकों के पास जमा राशि का क्या होगा?
जवाब: पेटीएम पेमेंट्स बैंक के ग्राहकों की मौजूदा जमा राशि बरकरार रखी गई है. साझेदार बैंकों को पेटीएम वाले खातों में वापस (स्वीप-इन) लाया जा सकता है.  पेमेंट बैंक, पेमेंट के लिए निर्धारित शेष राशि की सीमा के अधीन बैंक (यानी दिन के अंत में प्रति व्यक्तिगत ग्राहक ₹2 लाख)  ऐसे स्वीप-इन्स द्वारा उपयोग या निकासी के लिए शेष राशि उपलब्ध कराने के उद्देश्य से ग्राहक को अनुमति जारी रहेगी. हालाँकि, साझेदार के पास कोई नई जमा राशि नहीं है 15 मार्च, 2024 के बाद बैंकों को पेटीएम पेमेंट्स बैंक के माध्यम से अनुमति दी जाएगी. 

सवाल नंबर 5 :मेरा वेतन पेटीएम पेमेंट्स बैंक में मेरे खाते में जमा किया जाता है. क्या मुझे इस खाते में अपना वेतन मिलता रहेगा?
जवाब: नहीं, 15 मार्च 2024 के बाद, पेटीएम पेमेंट्स बैंक में आप ऐसा कोई भी क्रेडिट प्राप्त नहीं कर पाएंगे. यह सुझाव दिया जाता है कि आप असुविधा से बचने के लिए 15 मार्च 2024 से पहले किसी अन्य बैंक के साथ वैकल्पिक व्यवस्था कर लें. 

सवाल नंबर 6: मुझे मेरे पेटीएम पेमेंट्स बैंक के मेरे खाते में सरकार से अपने  आधार से जुड़ी सब्सिडी या कुछ प्रत्यक्ष लाभ मिलते हैं. क्या मैं इसे आगे भी प्राप्त कर पाउंगा?
जवाब: नहीं, 15 मार्च 2024 के बाद आप ऐसा कोई क्रेडिट प्राप्त नहीं कर पाएंगे. कृपया पेटीएम पेमेंट्स बैंक से आपका खाता बदलने की व्यवस्था करें. किसी भी असुविधा से बचने के लिए 15 मार्च 2024 से पहले खाते को दूसरे बैंक से लिंक करें

सवाल नंबर 7: मेरे पेटीएम बैंक लिमिटेड से लिंक खाते से मेरा मासिक बिजली बिल से स्वचालित रूप से भुगतान किया जाता है?  क्या यह जारी रह सकता है?
जवाब: जब तक आपके अकाउंट में बैलेंस है तब तक आप उसका इस्‍तेमाल कर पाएंगे. लेकिन 15 मार्च 2024 के बाद आप किसी भी तरह का भुगतान या जमा स्‍वीकार नहीं कर पाएंगे. इसके लिए सुझाव दिया जाता है कि दूसरे बैंक के साथ खाता जोड़ें. 

सवाल नंबर 8 मेरी मासिक ओटीटी सदस्यता का भुगतान और लोन की ईएमआई का भुगतान पेटीएम पेमेंट्स बैंक के साथ बैंक खाता से यूपीआई के माध्यम से स्वचालित रूप से किया जाता है. क्या यह जारी रह सकता है?
जवाब: जब तक आपके अकाउंट में बैलेंस है तब तक आप उसका इस्‍तेमाल कर पाएंगे. लेकिन 15 मार्च 2024 के बाद आप किसी भी तरह का भुगतान या जमा स्‍वीकार नहीं कर पाएंगे. इसके लिए सुझाव दिया जाता है कि दूसरे बैंक के साथ खाता जोड़ें. 

वॉलेट से जुड़े सवालों के जवाब 

सवाल नंबर 9 मेरे पास पेटीएम पेमेंट्स बैंक का एक वॉलेट है. क्या मैं 15 मार्च 2024 के बाद इस वॉलेट से पैसे का उपयोग जारी रख सकता हूँ?
जवाब: जब तक आपके अकाउंट में बैलेंस हैं तब तक आप इसका इस्‍तेमाल या ट्रांसफर कर पाएंगे. लेकिन इसका KYC अनिवार्य है. हालाँकि, इसका उपयोग केवल व्यापारी भुगतान के लिए किया जा सकेगा. 

सवाल नंबर 10 
मेरे पास पेटीएम पेमेंट्स बैंक का एक वॉलेट है. क्या मैं 15 मार्च 2024 के बाद इस वॉलेट में टॉप-अप या पैसे ट्रांसफर कर सकता हूं? क्या मुझे किसी दूसरे शख्‍स से इस वॉलेट में पैसा मिल पाएगा? 
जवाब: नहीं, वॉलेट में कैशबैक या रिफंड के अलावा 15 मार्च 2024 के बाद आप टॉप-अप या पैसे ट्रांसफर नहीं कर पाएंगे. 

सवाल नंबर 11 मेरे वॉलेट में पेटीएम पेमेंट्स बैंक से कैशबैक बकाया है. क्या मैं 15 मार्च 2024 के बाद कैशबैक मिलेगा?
जवाब: हाँ.रिफंड और कैशबैक जमा करने की अनुमति है

सवाल नंबर 12 मेरे पास पेटीएम पेमेंट्स बैंक का एक वॉलेट है. क्या मैं इस वॉलेट को बंद कर सकता हूँ या शेष राशि को किसी अन्य बैंक के मेरे बैंक खाते में स्थानांतरित कर सकता हूं?

जवाब: आप इसे बंद करने के लिए पेटीएम पेमेंट्स बैंक से संपर्क कर सकते हैं या इसके बैंकिंग ऐप का उपयोग कर सकते हैं. आप अपने वॉलेट और शेष राशि को दूसरे के साथ रखे गए खाते में ट्रांसफर कर सकते हैं. आप इसमें उपलब्ध शेष राशि का उपयोग या धनवापसी के लिए अनुरोध कर सकते हैं. 


इन क्षेत्रों में 40 हजार लोगों को रोजगार देगी यूपी सरकार, बजट में हुआ ऐलान 

यूपी सरकार ने बसों के बेड़े को बढ़ाने के लिए 500 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है जबकि अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति योजना के लिए 2475 करोड़ रुपए की व्यवस्था की है.

बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो by
Published - Monday, 05 February, 2024
Last Modified:
Monday, 05 February, 2024
Yogi Goverment

योगी सरकार ने सोमवार को यूपी का सालाना बजट पेश किया. वित्‍त मंत्री सुरेश खन्‍ना ने बजट पेश करते हुए कहा कि सरकार एक साल में 40 हजार लोगों को नौकरी देने की तैयारी कर रही है. उन्‍होंने कहा कि सरकार प्रदेश में टेक्सटाइल्स के नए हब बनाकर निवेश एवं रोजगार सृजन को बढ़ावा देने जा रही है. प्रदेश सरकार द्वारा हथकरघा बुनकरों के साथ-साथ पावरलूम बुनकरों के उत्थान के लिए अटल बिहारी बाजपेई पावरलूम विद्युत फ्लैट रेट योजना के लिए 400 करोड़ रुपए के बजट का प्रस्ताव किया गया है. इसके अतिरिक्त कई अन्‍य परियोजनाओं पर भी काम कर रही है जिससे इनमें रोजगार पैदा किया जा सके. 

यहां बनने जा रहे हैं टेक्‍सटाइल पार्क 
योगी सरकार पीएम मेगा इंटीग्रेटेड टेक्सटाइल्स एंड अपैरल योजना के अंतर्गत लखनऊ-हरदोई में लगभग 1000 एकड़ क्षेत्रफल में मेगा टेक्सटाइल पार्क स्वीकृत किया गया है. यह पार्क टेक्सटाइल एवं परिधान क्षेत्र में दस से 15 हजार करोड़ रुपए का निवेश आकर्षित करेगा जिससे लगभग 1 लाख प्रत्यक्ष और 2 लाख अप्रत्यक्ष रोजगार के अवसरों का सृजन होगा. पार्क की स्थापना हेतु 200 करोड़ रुपए की व्यवस्था प्रस्तावित है. जनपद वाराणसी में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी (निफ्ट) की स्थापना के लिए भूमि क्रय हेतु 150 करोड़ रुपए का बजट प्रस्तावित है.

10 प्लेज पार्क होंगे स्थापित 
योगी सरकार प्रदेश के शिक्षित एवं प्रशिक्षित युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए एक ओर जहां 1000 करोड़ के बजट के माध्यम से मुख्यमंत्री युवा उद्यमी विकास अभियान शुरू कर रही है तो वहीं निजी क्षेत्र में औद्योगिक संस्थानों को प्रोत्साहित करने के लिए प्रदेश में 10 प्लेज पार्क स्थापित किए जा रही है. इसके अतिरिक्त मुख्यमंत्री सूक्ष्म उद्यमी दुर्घटना बीमा योजना जो 2023 से संचालित है में अधिकतम 5 लाख रुपए तक की वित्तीय सहायता सूक्ष्म उद्यमियों को दिए जाने की व्यवस्था है. 

यूपी में ट्रांसपोर्ट सुविधाओं में होगा और इजाफा 
इस बजट में यूपी सरकार ने बसों के बेड़े को बढ़ाने के लिए 500 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है. रक्षाबंधन पर्व पर प्रदेश की महिला यात्रियों को निगम बसों में निःशुल्क यात्रा प्रदान की जा रही है. वर्ष 2017 से वर्ष 2023 तक 1.03 करोड़ से अधिक महिला यात्रियों को निःशुल्क यात्रा सुविधा प्रदान की गई है. निर्भया योजना के अंतर्गत महिलाओं के लिए 50 वातानुकूलित पिंक सेवाएं संचालित हैं, जिसमें महिला यात्रियों की सुरक्षा हेतु सभी बसों में पैनिक बटन स्थापित है. किसी भी आपदा की स्थिति में यात्रारत महिलाएं उत्तर प्रदेश पुलिस की डायल 112 सेवा के निरंतर संपर्क में रहती है.

दिव्‍यांगजनों को मिलेगी स्‍कॉलरशिप 
योगी सरकार के मेगा बजट में पिछड़ा वर्ग और दिव्यांगजन कल्याण के लिए भी विशेष प्रबंध किये गये हैं. जहां एक तरफ अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति योजना के लिए 2475 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गयी है, वहीं ओबीसी के निर्धन व्यक्तियों की पुत्रियों की शादी अनुदान योजना के लिए 200 करोड़ रुपए की व्यवस्था सरकार के बजट में की गयी है. वहीं दिव्यांग पेंशन योजना हेतु 1170 करोड़ रुपए की व्यवस्था प्रस्तावित की गयी है. योगी सरकार के बजट में जहां कुष्ठावस्था पेंशन योजना के लिए 42 करोड़ रुपए की व्यवस्था प्रस्तावित की गयी है,  वहीं कृत्रिम अंग व सहायक उपकरण अनुदान योजना के अन्तर्गत लगभग 49,000 दिव्यांगजनों को लाभान्वित किये जाने का लक्ष्य रखा गया है. इसी प्रकार अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्र-छात्राओं के छात्रावास निर्माण के लिए लगभग 22 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है. वहीं पिछड़ा वर्ग के बेरोजगार युवाओं को कम्प्यूटर प्रशिक्षण के लिए 35 करोड़ रुपए की व्यवस्था है. 
 

ये भी पढ़ें: 100 करोड़ के अधिग्रहण के साथ इस समूह ने किया गुड़़गांव में रियल स्‍टेट में किया प्रवेश


Zerodha में आई तकनीकी खराबी, यूजर्स ने सोशल मीडिया पर बताई आपबीती!

कुछ यूजर्स ने यह शिकायत भी की कि वह अपने अकाउंट से संबंधित डिटेल्स भी नहीं देख पा रहे हैं.

Last Modified:
Monday, 29 January, 2024
Zerodha

जाने-माने ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म जेरोधा (Zerodha) को लेकर इस वक्त एक काफी बड़ी खबर सामने आ रही है. आज सुबह के शुरुआती करोबार के दौरान जेरोधा में एक तकनीकी ग्लिच देखने को मिला जिसकी वजह से यूजर्स को अच्छी खासी परेशानी का सामना करना पड़ा और कई यूजर्स को इस ग्लिच की बदौलत नुकसान भी उठाना पड़ा. यूजर्स ने इस परेशानी के बारे में सोशल मीडिया पर पोस्ट साझा करके जानकारी दी है. 

Zerodha ने फायदे को नुकसान में बदला
अधिकतर यूजर्स ने सोशल मीडिया पर शिकायत करते हुए बताया कि ना तो वो अपनी होल्डिंग्स को देख पा रहे हैं और न ही अपने द्वारा किये गए ट्रेड की उन्हें जानकारी मिल पा रही है. साथ ही कुछ यूजर्स ने यह शिकायत भी की कि वह अपने अकाउंट से संबंधित डिटेल्स भी नहीं देख पा रहे हैं. एक यूजर ने सोशल मीडिया पर साझा की अपनी पोस्ट में लिखा कि ‘ये क्या हो रहा है? सभी ऑर्डर्स को लॉक करने के बाद पोजीशन क्लोज करने का विकल्प ही नहीं मिल रहा है. एक अन्य यूजर ने पोजीशन को क्लोज न कर पाने की शिकायत करते हुए अपनी पोस्ट में लिखा ‘जेरोधा (Zerodha), मेरे प्रोफिटेबल ट्रेड को नुकसान में बदलने के लिए शुक्रिया... आप लोग हमेशा टेक की बातें करते हैं, कहां है आपका टेक?

Zerodha ने क्या कहा?
सूत्रों की मानें तो सुबह ट्रेडिंग की शुरुआत होते ही कंपनी की वेबसाइट पर मोबाइल ब्रोकरेज से संबंधित मामलों को लेकर रिपोर्टिंग की गई थी. इस मामले पर जेरोधा (Zerodha) ने एक बयान जारी कर कहा कि एक कनेक्टिविटी से संबंधित समस्या की वजह से प्लेटफॉर्म को इस समस्या का सामना करना पड़ा था और इस समस्या की वजह से ही यूजर्स को अपने ऑर्डर प्लेस करने में लगातार एक बाद एक कई समस्याओं का सामना करना पड़ा. हमें असुविधा के लिए खेद है. 

Zerodha के साथ पहले भी हुआ है ये हादसा
अगर आप सोच रहे हैं कि जेरोधा (Zerodha) के साथ ऐसा पहली बार हुआ है तो ऐसा बिलकुल भी नहीं है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि लगभग महीने भर पहले भी जेरोधा के साथ कुछ ऐसा ही हुआ था. तब BJP द्वारा विधानसभा चुनावों में जीत दर्ज करने की वजह से शेयर मार्केट में काफी तेजी देखने को मिल रही थी और Zerodha में आये इस टेक्निकल ग्लिच की वजह से यूजर्स शेयर मार्केट में आई इस तेजी का फायदा नहीं उठा पाए थे.
 

यह भी पढ़ें: सुधा मूर्ति ने क्‍यों कहा, कुछ तो लोग कहेंगे, लोगों का काम है कहना

 


Ola ने दिल्ली और हैदराबाद में लॉन्च की सबसे किफायती e-bike सुविधा, चेक करें किराया!

सितंबर 2023 में ओला ने बैंगलोर में एक प्रोजेक्ट लॉन्च किया था जिसकी बदौलत देश को सबसे किफायती e-bike प्रदान करवाई गई थी.

बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो by
Published - Saturday, 27 January, 2024
Last Modified:
Saturday, 27 January, 2024
Ola Electric

जाने-माने राइडिंग प्लेटफॉर्म ओला (Ola) को लेकर इस वक्त एक काफी बड़ी खबर सामने आ रही है. हाल ही में ओला ने दिल्ली और हैदराबाद में e-bike सुविधाएं लॉन्च की हैं और इसके साथ ही बैंगलोर में शानदार शुरुआत करने के बाद कंपनी अब अपनी मौजूदगी को भी बड़ा करना चाहती है. यह सभी जानकारी कंपनी द्वारा रिलीज के माध्यम से मीडिया के साथ साझा की गई है. 

5 रुपए प्रति किलोमीटर
ओला द्वारा इस e-bike सुविधा को लेकर कहा जा रहा है कि यह देश की सबसे किफायती e-bike सुविधा होगी. बताया जा रहा है कि इस e-bike सुविधा का किराया बहुत ही कम होगा और प्रति किलोमीटर के लिए आपको 5 रुपए जितना किराया ही देना होगा. इसका मतलब ये है कि आपको 5 किलोमीटर की यात्रा के लिए रुपए, 10 किलोमीटर के लिए 50 रुपए और 15 किलोमीटर जितनी दूरी के लिए सिर्फ 75 रुपए जितने किराये का ही भुगतान करना है. कंपनी द्वारा जारी की गई प्रेस रिलीज में इस e-bike सर्विस को शहर में यात्रा करने के लिए सबसे किफायती और सुविधाजनक सोल्यूशन बताया है. 

2 महीने में 10,000 बाइक्स
ओला मोबिलिटी (Ola Mobility) के CEO हेमंत बख्शी कहते हैं कि बैंगलोर में हमारे द्वारा लॉन्च की गई e-bike टैक्सी प्रोजेक्ट को जबरदस्त सफलता मिली थी और इस सुविधा के माध्यम से हमने इकोसिस्टम में मौजूद सभी भागीदारों – कंज्यूमर के लिए कम कीमत, ड्राईवर के लिए ज्यादा कमाई और ओला के लिए कैटेगरी और कमाई के माध्यम से वैल्यू का टिकाऊ प्रस्ताव सामने रखा था. इसके साथ ही कंपनी बैंगलोर, हैदराबाद और दिल्ली में e-bike टैक्सियों के लिए एक ज्यादा बड़ी मार्केट बनाना चाहती है. अगले दो महीनों के दौरान कंपनी इन तीनों ही शहरों में 10,000 e-bike उतारना चाहती है. 

प्राप्त हुई 17 लाख राइड्स
सितंबर 2023 में ओला ने बैंगलोर में एक नया प्रोजेक्ट लॉन्च किया था. इस फैसले की बदौलत देश को सबसे किफायती इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहन प्रदान करवाए गए थे और सिर्फ 3 ही महीनों में इस कैटेगरी के भीतर मार्केट में 40% जितनी बढ़ोत्तरी देखने को मिली थी. तब से लेकर आज तक कंपनी को लगभग 17 लाख 50,000 राइड्स प्राप्त हो चुकी हैं.
 

यह भी पढ़ें: भारत और फ्रांस के बीच दोस्ती में हुआ इजाफा, तय हुईं ये प्रमुख डीलें!


75वें गणतंत्र पर महिला शक्ति के पराक्रम का प्रदर्शन, सैन्‍य हथियारों का किया नेतृत्‍व 

हर साल तीनों सेनाओं के मार्च पास्‍ट और राज्‍यों की झांकी के बाद आने वाले मोटरसाइकिल दस्‍तों में भी इस बार महिलाओं के करतब देखने को मिले.

Last Modified:
Friday, 26 January, 2024
Women Power

देश के कर्तव्‍यपथ पर 75वें गणतंत्र दिवस के कार्यक्रम में देश की महिलाओं की शक्ति का प्रदर्शन 140 करोड़ हिंदुस्‍तानियों को देखने को मिला. देश के महत्‍वपूर्ण सैन्‍य साजों सामान से लेकर राज्‍यों की झांकियों और मोटरसाइकिल पर महिला शक्ति ने जो प्रदर्शन किया उसने आज देश को सोचने पर मजबूर कर दिया है. आधी आबादी के इस शानदार और नायाब प्रदर्शन पर पूरा गणतंत्र नाज कर रहा है. 

तीनों सेनाओं की ताकत में दिखी नारी शक्ति 
राजपथ जिसे अब कर्तव्य पथ के नाम से जाना जाता है वहां गणतंत्र दिवस के अवसर पर देश की नारी शक्ति का जय उद्घोष देश के सामने सुनाई दिया. महिला शक्ति की थीम पर केन्द्रित इस बार के गणतंत्र दिवस पर तीनों सैन्‍य सेवाओं आर्मी, एयर फोर्स और नेवी के महिला दस्तों  ने परेड में हिस्सा लिया. 15 महिला पायलट एयर फोर्स के फ्लाइ पास्ट का हिस्सा रहीं. इसी तरह केन्‍द्रीय पुलिस फोर्स (CAPF) की टुकड़ियों में भी सिर्फ महिलाएं हीं शामिल रहीं. 

हैरतअंगेज कारनामे करती दिखी महिलाएं
हर साल तीनों सेनाओं के मार्च पास्‍ट और राज्‍यों की झांकी के बाद आने वाले मोटरसाइकिल दस्‍तों में भी इस बार महिलाओं के करतब देखने को मिले. इसमें मुख्‍य तौर पर सीआरपीएफ, एसएसबी और बीएसएफ की डेयर डेविल्स महिलाओं के हैरतअंगेज प्रदर्शन को देखकर देश दंग रह गया. महिलाओं की टीम ने ऐसा प्रदर्शन किया कि जिसने सभी को एक पल के लिए ये भुला दिया कि ये महिलाएं हैं.  सीआरपीएफ की असिस्टेंट कमांडेंट सीमा नाग ने अभिवादन फॉर्मेशन में वीआईपी गेस्ट को सलामी दी. 

फ्रांसीसी सेना के बैंड ने भी लिया हिस्‍सा 
इस साल गणतंत्र दिवस के मुख्‍य अतिथि के तौर पर फ्रांस के राष्‍ट्रपति इमैनुअल मैक्रों शामिल रहें. इस बार गणतंत्र दिवस पर कर्तव्‍य पथ में फ्रांसीसी सेना का बैंड भी शामिल हुआ. ये भारत और फ्रांस के बीच बढ़ते सामरिक रिश्‍तों का ही असर है कि पिछले साल भारतीय वायु सेना और भारतीय सैनिकों ने भी हिस्‍सा लिया था.  

ये भी पढ़ें: क्रिकेट में फिर सामने आया फिक्सिंग का मामला, घेर में तीसरी शादी करने वाला ये क्रिकेटर
 


केवल 80 मिनट में Delhi Airport से पहुंचें Noida Airport, सरकार बनाएगी ये प्रोजेक्ट!

NCRTC (राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम) फिलहाल एक डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट पर काम कर रही है जिसे मार्च तक पूरा कर लिया जाएगा.

बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो by
Published - Tuesday, 23 January, 2024
Last Modified:
Tuesday, 23 January, 2024
DELHI AIRPORT

नोएडा के जेवर में बनाये जा रहे एयरपोर्ट को लेकर इस वक्त एक काफी बड़ी खबर सामने आ रही है. हाल ही में पता चला है कि नोएडा में बनाये जा रहे इस एयरपोर्ट को दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट (Indira Gandhi International Airport) से कनेक्ट किया जाएगा और इसके लिए एक रैपिड रेल कॉरिडोर का निर्माण किया जाएगा और इसके लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 16000 करोड़ रुपयों के बजट को मंजूरी भी दे दी गई है. 

4 सालों में पूरा हो जाएगा प्रोजेक्ट
ये रैपिड रेल कॉरिडोर दिल्ली एयरपोर्ट और नोएडा एयरपोर्ट को तो कनेक्ट करेगी ही साथ ही यह दिल्ली के अन्य इलाकों को भी आपस में कनेक्ट करेगी. NCRTC (राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम) फिलहाल एक डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट पर काम कर रही है और इसे मार्च तक पूरा कर लिया जाएगा. उत्तर प्रदेश सरकार में नोएडा अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट लिमिटेड के नोडल अफसर शैलेन्द्र भाटिया ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि एक बार ये प्रोजेक्ट शुरू होने के बाद इसे पूरा होने में लगभग 4 सालों जितना समय ही लगेगा. 

कब उड़ान भरेगी पहली फ्लाइट
इस रेल कॉरिडोर की बदौलत ग्रीनफील्ड को अपने एयरपोर्ट की तरफ लोगों को आकर्षित करने में काफी जबरदस्त बूस्ट मिलेगा और साथ ही दिल्ली एयरपोर्ट पर इकट्ठा होने वाली भीड़ में भी कमी आएगी. नोएडा अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट से पहली फ्लाइट इस साल के अंत तक उड़ान भरेगी और इंडिगो (Indigo) एवं अकासा एयर (Akasa Air) के साथ फ्लाइट लॉन्च करने के लिए समझौते पर हस्ताक्षर भी कर लिए गए हैं. एक तरफ दिल्ली एयरपोर्ट जहां GMR ग्रुप (GMR Group) के द्वारा ऑपरेट किया जाता है, वहीं नोएडा एयरपोर्ट को ज्यूरिक एयरपोर्ट (Zurich Airport) नामक संस्था के द्वारा ऑपरेट किया जाएगा. 

कुछ ऐसा होगा रैपिड रेल प्रोजेक्ट
दुनिया भर के ऐसे देशों में जहां विभिन्न एयरपोर्ट मौजूद हैं, वहां हाई स्पीड रेल नेटवर्क भी मौजूद हैं ताकि यात्रियों को सुविधाजनक तरीके से एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाया जा सके. प्रस्तावित सुझाव के अनुसार नोएडा एयरपोर्ट को गाजियाबाद स्टेशन से जोड़ा जाएगा. आपको बता दें कि गाजियाबाद स्टेशन दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल परिवहन लाइन पर मौजूद है. यात्री दिल्ली-अलवर रैपिड रेल के माध्यम से सराय काले खान स्टेशन से यात्रा शुरू कर पायेंगे. आपको बता दें कि इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट और एयरोसिटी स्टेशन भी इसी लाइन पर बनाये जायेंगे.
 

यह भी पढ़ें: 52 हफ्तों में अपने सबसे निचले स्तर पर पहुंचे HDFC Bank के शेयर, अब आगे क्या?


EPFO ने Aadhaar Card के संबंध में लिया ये अहम फैसला, अब नहीं होगा वैध!

सर्कुलर में बताया गया है कि जन्मतिथि के प्रमाण के रूप में वैध माने जाने वाले डाक्यूमेंट्स की लिस्ट में से आधार को हटा दिया गया है.

बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो by
Published - Thursday, 18 January, 2024
Last Modified:
Thursday, 18 January, 2024
EPFO

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) की तरफ से इस वक्त एक काफी बड़ी खबर सामने आ रही है. हाल ही में EPFO ने जानकारी देते हुए बताया कि आधार कार्ड (Aadhaar Card) को लेकर संगठन की तरफ से एक काफी महत्त्वपूर्ण फैसला लिया गया है. EPFO ने एक सर्कुलर के माध्यम से जानकारी डेट एहुए बताया है कि अब आधार कार्ड को जन्मतिथि के प्रमाण के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जा सकेगा. 

अब Aadhaar Card नहीं है वैध?
यह सर्कुलर 16 जनवरी को जारी किया गया था और संगठन का कहना है कि यह फैसला UIDAI द्वारा 2023 में जारी किये गए एक आदेश को ध्यान में रखकर लिया गया है. सर्कुलर में जानकारी देते हुए बताया गया है कि जन्मतिथि के प्रमाण के रूप में वैध माने जाने वाले डाक्यूमेंट्स की लिस्ट में से आधार को हटा दिया गया है. इस संबंध में UIDAI द्वारा एक पत्र भेजा गया था और इस पत्र में स्पष्ट तौर पर कहा गया था कि आधार कार्ड (Aadhaar Card) को जन्मतिथि के प्रमाण के रूप में वैध माने जाने वाले डाक्यूमेंट्स की लिस्ट में से डिलीट करना होगा. इसी तरह आधार को जन्मतिथि में बदलाव करने के लिए वैधता प्राप्त डाक्यूमेंट्स की लिस्ट में से भी हटा दिया गया है. 

Aadhaar Card को क्यों हटाया गया?
कुछ समय पहले UIDAI को पता चला था कि बहुत सी संस्थाएं ऐसी हैं जो आधार को जन्मतिथि के प्रमाण के रूप में वैध मानती हैं और इन संस्थाओं में EPFO का नाम भी शामिल था. लेकिन UIDAI द्वारा स्पष्ट तौर पर यह साफ कर दिया गया था कि, हालांकि आधार कार्ड (Aadhaar Card) एक विशिस्ष्ट पहचान प्रमाण के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है लेकिन आधार एक्ट 2016 के अनुसार इसे जन्मतिथि के प्रमाण के रूप में वैध नहीं माना जा सकता. सर्कुलर में यह भी स्पष्ट तौर पर कहा गया है कि आधार को जन्मतिथि के प्रमाण के रूप में वैध माने जाने वाले डाक्यूमेंट्स की लिस्ट में से हटाने का फैसला पहले जारी की गई SOP के जॉइंट डिक्लेरेशन के अनुबंध 1 में मौजूद टेबल बी (Table B) के आधार पर हटाया गया है. इस फैसले को CPFC (केंद्रीय भविष्य निधि कमिश्नर) के द्वारा भी मंजूरी दे दी गई है.

अब आगे क्या?
UIDAI के सर्कुलर में स्पष्ट तौर पर कहा गया है कि आधार एक्ट 2016 के अनुसार आधार कार्ड (Aadhaar Card) को जन्मतिथि के प्रमाण के रूप में वैध नहीं माना जा सकता. अब जब EPFO द्वारा आधार कार्ड को वैध नहीं माना जायेगा तो ऐसे में सवाल उठता है कि ऐसे कौन से प्रमाण हैं जिन्हें जन्मतिथि के प्रमाण के रूप में EPFO के समक्ष पेश किया जा सकता है. निम्नलिखित डाक्यूमेंट्स को आप EPFO के समक्ष जन्मतिथि के प्रमाण के रूप में दर्ज करवा सकते हैं. 

1.    रजिस्ट्रार द्वारा जारी किया गया बर्थ सर्टिफिकेट

2.    किसी सरकारी बोर्ड या यूनिवर्सिटी के द्वारा जारी की गई मार्कशीट

3.    SLC यानी स्कूल छोड़ने का प्रमाण पत्र

4.    PAN कार्ड (PAN Card)

5.    सरकार द्वारा जारी किया गया डोमिसिल सर्टिफिकेट
 

यह भी पढ़ें: हमारी अर्थव्यवस्था को लेकर सामने आई ऐसी खबर, सुनकर खुश हो जाएगा दिल