भारतीय संस्कृति में क्या है विक्रम संवत का महत्त्व, कितने प्रकार के होते हैं संवत्सर?

आज अंग्रेजी कैलेंडर प्रचलन में है, परन्तु हमारे तीज-त्यौहार, व्रत, उपवास, रामनवमी-जन्माष्टमी, गृह प्रवेश, विवाह आदि का शुभमुहूर्त भारतीय कैलेंडर अर्थात हिन्दू पंचांग के अनुसार ही देखा जाता है.

Last Modified:
Tuesday, 21 March, 2023
file photo
  • डॉ. सौरभ मालवीय

नवरात्र हवन के झोंके, सुरभित करते जनमन को।
है शक्तिपूत भारत, अब कुचलो आतंकी फन को॥
नव संवत पर संस्कृति का, सादर वन्दन करते हैं।
हो अमित ख्याति भारत की, हम अभिनन्दन करते हैं॥

22 मार्च से विक्रम संवत 2080 का प्रारंभ हो रहा है. विक्रम संवत को नव संवत्सर भी कहा जाता है. संवत्सर पांच प्रकार के होते हैं, जिनमें सौर, चन्द्र, नक्षत्र, सावन और अधिमास सम्मिलित हैं. मेष, वृष, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, मकर, कुम्भ एवं मीन नामक बारह राशियां सूर्य वर्ष के महीने हैं. सूर्य का वर्ष 365 दिन का होता है. इसका प्रारम्भ सूर्य के मेष राशि में प्रवेश करने से होता है. चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ, आषाढ़, श्रावण, भाद्रपद, आश्विन, कार्तिक, अग्रहायण, पौष, माघ और फाल्गुन चन्द्र वर्ष के महीने हैं. चन्द्र वर्ष 355 दिन का होता है. इस प्रकार इन दोनों वर्षों में दस दिन का अंतर हो जाता है. चन्द्र माह के बढ़े हुए दिनों को ही अधिमास या मलमास कहा जाता है. नक्षत्र माह 27 दिन का होता है, जिन्हें अश्विन नक्षत्र, भरणी नक्षत्र, कृत्तिका नक्षत्र, रोहिणी नक्षत्र, मृगशिरा नक्षत्र, आर्द्रा नक्षत्र, पुनर्वसु नक्षत्र, पुष्य नक्षत्र, आश्लेषा नक्षत्र, मघा नक्षत्र, पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र, उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र, हस्त नक्षत्र, चित्रा नक्षत्र, स्वाति नक्षत्र, विशाखा नक्षत्र, अनुराधा नक्षत्र, ज्येष्ठा नक्षत्र, मूल नक्षत्र, पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र, उत्तराषाढ़ा नक्षत्र, श्रवण नक्षत्र, घनिष्ठा नक्षत्र, शतभिषा नक्षत्र, पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र, उत्तराभाद्रपद नक्षत्र, रेवती नक्षत्र कहा जाता है. सावन वर्ष में 360 दिन होते हैं. इसका एक महीना 30 दिन का होता है.      

विक्रम संवत का महत्व 
भारतीय संस्कृति में विक्रम संवत का बहुत महत्त्व है. चैत्र का महीना भारतीय कैलेंडर के हिसाब से वर्ष का प्रथम महीना है. नवीन संवत्सर के संबंध में अनेक पौराणिक कथाएं प्रचलित हैं. वैदिक पुराण एवं शास्त्रों के अनुसार चैत्र शुक्ल पक्ष प्रतिपदा तिथि को आदिशक्ति प्रकट हुई थीं. आदिशक्ति के आदेश पर ब्रह्मा ने सृष्टि की प्रारम्भ की थी. इसीलिए इस दिन को अनादिकाल से नववर्ष के रूप में जाना जाता है. मान्यता यह भी है कि इसी दिन भगवान विष्णु ने मत्स्य अवतार लिया था. इसी दिन सतयुग का प्रारम्भ हुआ था. मान्यता है कि इसी दिन सम्राट विक्रमादित्य ने अपना राज्य स्थापित किया था. श्रीराम का राज्याभिषेक भी इसी दिन हुआ था. युधिष्ठिर का राज्याभिषेक भी इसी दिन हुआ था. नवरात्र भी इसी दिन से प्रारम्भ होते हैं. इसी तिथि को राजा विक्रमादित्य ने शकों पर विजय प्राप्त की थी. विजय को चिर स्थायी बनाने के लिए उन्होंने विक्रम संवत का शुभारंभ किया था, तभी से विक्रम संवत चली आ रही है. इसी दिन से महान गणितज्ञ भास्कराचार्य ने सूर्योदय से सूर्यास्त तक दिन, महीने और वर्ष की गणना करके पंचांग की रचना की थी. चैत्र शुक्ल प्रतिपदा का ऐतिहासिक महत्त्व भी है. स्वामी दयानंद सरस्वती ने इसी दिन आर्य समाज की स्थापना की थी. इस दिन महर्षि गौतम जयंती मनाई जाती है. इस दिन संघ संस्थापक डॉ. केशवराव बलिराम हेडगेवार का जन्मदिवस भी मनाया जाता है.

महीनों का रोचक नामकरण
सृष्टि की सर्वाधिक उत्कृष्ट काल गणना का श्रीगणेश भारतीय ऋषियों ने अति प्राचीन काल से ही कर दिया था. तदनुसार हमारे सौरमंडल की आयु लगभग चार अरब 32 करोड़ वर्ष हैं. आधुनिक विज्ञान भी कार्बन डेटिंग और हॉफ लाइफ पीरियड की सहायता से इसे लगभग चार अरब वर्ष पुराना मान रहा है. इतना ही नहीं, श्रीमद्भागवद पुराण, श्री मारकंडेय पुराण और ब्रह्म पुराण के अनुसार अभिशेत् बाराह कल्प चल रहा है और एक कल्प में एक हजार चतुरयुग होते हैं. जिस दिन सृष्टि का प्रारम्भ हुआ, वह आज ही का पवित्र दिन था. इसी कारण मदुराई के परम पावन शक्तिपीठ मीनाक्षी देवी के मंदिर में चैत्र पर्व मनाने की परंपरा बन गई. भारतीय महीनों का नामकरण भी बड़ा रोचक है. अर्थात जिस महीने की पूर्णिमा जिस नक्षत्र में पड़ती है, उसी के नाम पर उस महीने का नामकरण किया गया है, उदाहरण के लिए इस महीने की पूर्णिमा चित्रा नक्षत्र में हैं, इसलिए इसे चैत्र महीने का नाम दिया गया. क्रांति वृत पर 12 महीने की सीमाएं तय करने के लिए आकाश में 30-30 अंश के 12 भाग किए गए और उनके नाम भी तारा मंडलों की आकृतियों के आधार पर रखे गए. इस प्रकार बारह राशियां बनीं. चूंकि सूर्य क्रांति मंडल के ठीक केंद्र में नहीं है, अत: कोणों के निकट धरती सूर्य की प्रदक्षिणा 28 दिन में कर लेती है और जब अधिक भाग वाले पक्ष में 32 दिन लगते हैं. इसलिए प्रति तीन वर्ष में एक मास अधिक हो जाता है.

भारतीय काल गणना
भारतीय काल गणना इतनी वैज्ञानिक व्यवस्था है कि शताब्दियों तक एक क्षण का भी अंतर नहीं पड़ता, जबकि पश्चिमी काल गणना में वर्ष के 365.2422 दिन को 30 और 31 के हिसाब से 12 महीनों में विभक्त करते हैं. इस प्रकार प्रत्येक चार वर्ष में फरवरी महीने को लीप ईयर घोषित कर देते हैं. तब भी नौ मिनट 11 सेकेंड का समय बच जाता है, तो प्रत्येक चार सौ वर्षों में भी एक दिन बढ़ाना पड़ता है, तब भी पूर्णाकन नहीं हो पाता. अभी कुछ वर्ष पूर्व ही पेरिस के अंतर्राष्ट्रीय परमाणु घड़ी को एक सेकंड स्लो कर दिया गया. फिर भी 22 सेकंड का समय अधिक चल रहा है. यह पेरिस की वही प्रयोगशाला है, जहां के सीजीएस सिस्टम से संसार भर के सारे मानक तय किए जाते हैं. रोमन कैलेंडर में तो पहले 10 ही महीने होते थे. किंगनुमापाजुलियस ने 355 दिनों का ही वर्ष माना था, जिसे जुलियस सीजर ने 365 दिन घोषित कर दिया और उसी के नाम पर एक महीना जुलाई बनाया गया. उसके एक सौ वर्ष पश्चात किंग अगस्ट्स के नाम पर एक और महीना अगस्ट अर्थात अगस्त भी बढ़ाया गया. चूंकि ये दोनों राजा थे, इसलिए इनके नाम वाले महीनों के दिन 31 ही रखे गए. आज के इस वैज्ञानिक युग में भी यह कितनी हास्यास्पद बात है कि लगातार दो महीने के दिनों की संख्या समान है, जबकि अन्य महीनों में ऐसा नहीं है. यही नहीं, जिसे हम अंग्रेजी कैलेंडर का नौवां महीना सितम्बर कहते हैं, दसवां महीना अक्टूबर कहते हैं, ग्यारहवां महीना नवम्बर और बारहवां महीना दिसंबर है. इनके शब्दों के अर्थ भी लैटिन भाषा में 7,8,9 और 10 होते हैं. भाषा विज्ञानियों के अनुसार भारतीय काल गणना पूरे विश्व में व्याप्त थी और सचमुच सितम्बर का अर्थ सप्ताम्बर था, आकाश का सातवां भाग, उसी प्रकार अक्टूबर अष्टाम्बर, नवम्बर तो नवमअम्बर और दिसम्बर दशाम्बर है.

रविवार सृष्टि का प्रथम दिन
वर्ष 1608 में एक संवैधानिक परिवर्तन द्वारा एक जनवरी को नववर्ष घोषित किया गया. जेनदअवेस्ता के अनुसार धरती की आयु लगभग 12 हजार वर्ष है. चीनी कैलेंडर लगभग एक करोड़ वर्ष पुराना मानता है. चालडियन कैलेंडर धरती को लगभग दो करोड़ 15 लाख वर्ष पुराना मानता है. फीनीसयन इसे लगभग 30 हजार वर्ष की बताते हैं. सीसरो के अनुसार, यह लगभग चार लाख 80 हजार वर्ष पुरानी है. सूर्य सिद्धांत और सिद्धांत शिरोमाणि आदि ग्रंथों में चैत्रशुक्ल प्रतिपदा रविवार का दिन ही सृष्टि का प्रथम दिन माना गया है. संस्कृत के होरा शब्द से ही, अंग्रेजी का आवर (Hour) शब्द बना है. इस प्रकार यह सिद्ध हो रहा है कि वर्ष प्रतिपदा ही नववर्ष का प्रथम दिन है. एक जनवरी को नववर्ष मनाने वाले दोहरी भूल के शिकार होते हैं, क्योंकि भारत में जब 31 दिसंबर की रात को 12 बजता है, तो ब्रिटेन में सायंकाल होता है, जो कि नववर्ष की पहली सुबह हो ही नहीं सकती. और जब उनका एक जनवरी का सूर्योदय होता है, तो यहां के Happy New Year मनाने वाले रात्रि भर जागने कारण सो रहे होते हैं. ऐसी स्थिति में उनके लिए सवेरे नहा धोकर भगवान सूर्य की पूजा करना तो अत्यंत दुष्कर कार्य है. परन्तु भारतीय नववर्ष में वातावरण अत्यंत मनोहारी रहता है. केवल मनुष्य ही नहीं, अपितु जड़ चेतना नर-नाग यक्ष रक्ष किन्नर-गंधर्व, पशु-पक्षी लता, पादप, नदी नद, देवी, देव, मानव से समष्टि तक सब प्रसन्न होकर उस परम शक्ति के स्वागत मंर सन्नध रहते हैं.

चहुंओर प्रकृति चहक उठती है
नववर्ष पर दिवस सुनहले, रात रूपहली, उषा सांझ की लाली छन-छन कर पत्तों में बनती हुई चांदनी जाली कितनी मनोहारी लगती है. शीतल मंद सुगंध पवन वातावरण में हवन की सुरभि कर देते हैं. ऐसे ही शुभ वातावरण में अखिल लोकनायक श्रीराम का अवतार होता है. उल्लेखनीय है कि ज्योतिष विद्या में ग्रह, ऋतु, मास, तिथि एवं पक्ष आदि की गणना भी चैत्र प्रतिपदा से ही की जाती है. मान्यता है कि नव संवत्सर के दिन नीम की कोमल पत्तियों और पुष्पों का मिश्रण बनाकर उसमें काली मिर्च, नमक, हींग, मिश्री, जीरा और अजवाइन मिलाकर उसका सेवन करने से शरीर स्वस्थ रहता है. इस दिन आंवले का सेवन भी बहुत लाभदायक बताया गया है, माना जाता है कि आंवला नवमीं को जगत पिता ने सृष्टि पर पहला सृजन पौधे के रूप में किया था. यह पौधा आंवले का था, इस तिथि को पवित्र माना जाता है. इस दिन मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना होती है. निसंदेह, जब भारतीय नववर्ष का प्रारंभ होता है, तो चहुंओर प्रकृति चहक उठती है. भारत की बात ही निराली है.

कवि श्री जयशंकर प्रसाद के शब्दों में-
अरुण यह मधुमय देश हमारा
जहां पहुंच अनजान क्षितिज को
मिलता एक सहारा
अरुण यह मधुमय देश हमारा

इसमें संदेह नहीं कि आज अंग्रेजी कैलेंडर प्रचलन में है, परन्तु हमारे तीज-त्यौहार, व्रत, उपवास, रामनवमी-जन्माष्टमी, गृह प्रवेश, विवाह तथा अन्य कार्यों के शुभमुहूर्त आदि सभी आयोजन भारतीय कैलेंडर अर्थात हिन्दू पंचांग के अनुसार ही देखे जाते हैं. आइए इस शुभ अवसर पर हम भारत को पुन: जगतगुरु के पद पर आसीन करने में कृत संकल्प हों.

(लेखक ने सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और मीडिया विषय पर पीएचडी की है).


इस अक्षय तृतीया बचत का बन रहा है शुभ संयोग, जानें कहां मिल रहा है कितना डिस्काउंट

अक्षय तृतीया का पर्व शुक्रवार यानी 10 मई को मनाया जाएगा. इस खास मौके पर ज्वैलरी ब्रैंड्स से लेकर बैंक तक गाहकों को स्पेशल ऑफर दे रहे हैं.

Last Modified:
Monday, 06 May, 2024
BWHindia

सनातन धर्म में अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) का दिन बहुत शुभ माना जाता है. इस दिन सोना खरीदना बेहद शुभ माना जाता है. इस साल अक्षय तृतीया का पर्व शुक्रवार यानी 10 मई को मनाया जाएगा. अक्षय शब्द का अर्थ होता है 'जिसका कभी क्षय न हो या जिसका कभी नाश न हो'. इस दिन लोग जीवन में सुख व समृद्धि के लिए माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु की पूजा करने के साथ सोने व चांदी की ज्वैलरी की खरीदारी भी करते हैं. ऐसे में इस खास मौके पर देश के बड़े ज्वेलरी ब्रैंड्स से लेकर बैंक भी आपको कार लोन पर आकर्षक ऑफर्स दे रहे हैं. तो चलिए आपको इन ऑफर्स की जानकारी देते हैं.

मेकिंग चार्ज पर 25 प्रतिशत तक की बंपर छूट
.मशहूर ज्वेलरी ब्रांड मालाबार गोल्ड्स (Malabar Golds) ग्राहकों को अक्षय तृतीया के मौके पर डायमंड और गोल्ड ज्वेलरी की शॉपिंग पर मेकिंग चार्ज पर 25 प्रतिशत की छूट दे रहा है. यह ऑफर 27 अप्रैल से 12 मई तक के लिए वैलिड है. वहीं, टाटा के ब्रैंड तनिष्क (Tanishq) ने भी अक्षय तृतीया के लिए स्पेशल ऑफर लॉन्च किया है. कंपनी ग्राहकों को गोल्ड और डायमंड ज्वेलरी के मेकिंग चार्ज पर 20 फीसदी की छूट दे रही है. यह ऑफर 2 मई से 12 मई तक के लिए वैलिड है. मेलोरा (Mellora) अक्षय तृतीया के मौके पर अपने ग्राहकों के लिए डायमंड और Gemstone ज्वेलरी की खरीद पर 25 फीसदी की छूट ऑफर कर रहा है.

मिलेंगे गिफ्ट वाउचर
जोयालुक्कास (joyalukkas) भी अक्षय तृतीया के मौके पर ग्राहकों के लिए स्पेशल ऑफर लेकर आया है. ग्राहकों को 50,000 रुपये की ज्वेलरी की खरीदारी पर 1000 रुपये का गिफ्ट वाउचर मिलेगा. वहीं, 50,000 रुपये से अधिक डायमंड की खरीद पर 2,000 रुपये का गिफ्ट वाउचर मिलेगा. 

इसे भी पढ़ें-RBI के इस नए नियम का अपडेट के बाद, कई सरकारी कंपनियों के शेयर पाताल में

देश के ये टॉप बैंक कार लोन पर पर दे रहे ऑफर
बैंक भी अक्षय तृतीय के अवसर पर ग्राहकों को कार लोन पर ब्याज दरों और प्रोसेसिंग फीस पर काफी अच्छा ऑफर दे रहे हैं. एक रिपोर्ट के अनुसार देश के टॉप 10 बैंक 4 साल के पीरियड वाले 10 लाख रुपये तक के कार लोन पर 8.7 से 9.4 प्रतिशत का ब्याज ऑफर कर रहे हैं. यूनियन बैंक 8.70 प्रतिशत ब्यज ऑफर कर रहा है, जिसमें 24, 565 हजार रुपये ईएमआई कटेगी. वहीं, एसबीआई, इंडियन बैंक, केनरा बैंक और पंजाब नेशनल 8.75 की दर से लोन दे रहे हैं. इसमें आपकी 24, 587 रुपये ईएमआई जाएगी. बैंक ऑफ इंडिया में 8.85 प्रतिशत ब्याज के साथ आपकी 24, 632 रुपये ईएमआई जाएगी. बैंक ऑफ बड़ोदा में 8. 90 प्रतिशत ब्याज दर के साथ आपको 24, 655 रुपये, एक्सिस बैंक में 9.30 प्रतिशत ब्याज दर के साथ 24, 835 ईएमआई,  आईसीआईसीआई बैंक में 9.10 प्रतिशत ब्याज दर के साथ 24, 745 और एचडीएफसी बैंक में 9.40 प्रतिशत ब्याज दर के साथ आपको 24,881 रुपये ईएमआई देनी होगी.  
 


आज मनाई जाएगी राम नवमी, सुख व समृद्धि के लिए करें ये उपाय

आज देशभर में राम नवमी के साथ कन्या पूजन किया जाएगा. राम नवमी पर लोग पूजा पाठ करके अपने परिवार की सुख समृद्धि के लिए कामना करते हैं. 

Last Modified:
Tuesday, 16 April, 2024
Ram Navami

आज देशभर में राम नवमी मनाई जा रही है. अयोध्या में भी राम लला की पूजा की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं. आपको बता दें, हर साल चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को राम नवमी मनाई जाती है. शास्त्रों के अनुसार इसी दिन भगवान श्रीराम का जन्म हुआ था, इसलिए इस दिन को रामनवमी के रूप में मनाया जाता है. साथ ही इसी दिन चैत्र नवरात्र का कन्या पूजन भी किया जाता है. मान्यता है कि इस दिन उपाय करने से साधक के जीवन में खुशियों का आगमन होता है और धन वर्षा भी होती है. तो चलिए जानते हैं आप राम नवमी पर किन उपायों से सुख समृद्धि पा सकते हैं. 

राम नवमी पूजन के लिए शुभ मुहुर्त 
ज्योतिषाचार्यों के अनुसार राम नवमी 2024 का शुभ मुहूर्त इस वर्ष 17 अप्रैल को सुबह 11:03 बजे से दोपहर 01:38 बजे तक रहेगा. इस समय श्रद्धालु श्रीराम और माता सिद्धिदात्री की विधिवत पूजा कर उनका आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं. इसके साथ ही कन्या पूजन के लिए भी ये मुहूर्त शुभ है. 

राम नवमी पर करें ये उपाय 
1.अगर आपको कार्यों में सफलता नहीं रही है, तो ऐसे में राम नवमी पर भगवान श्रीराम को पूजा के दौरान चंदन का तिलक लगाएं. साथ ही सच्चे मन से श्रीराम स्तुति का पाठ करें. मान्यता है कि ऐसा करने से साधक को सभी कार्यों में सफलता प्राप्त होती है.
2.इसके अलावा आप राम नवमी पर श्रद्धा अनुसार गरीबों को कपड़ों और भोजन का दान कर सकते हैं. ऐसा माना जाता है कि यह उपाय करने से भगवान श्रीराम प्रसन्न होते हैं.
3.भगवान श्रीराम भगवान विष्णु जी के 7वें अवतार हैं. माना जाता है कि विष्णु जी को पीले फुल अति प्रिय है, तो ऐसे में आप राम नवमी पर प्रभु को पीले फूल अर्पित करें. मान्यता है कि ऐसा करने से साधक के जीवन में खुशियों का आगमन होता है.
4.अगर आप धन की प्राप्ति चाहते हैं, तो राम नवमी पर मंदिर में केसरिया ध्वज का दान करें और दूध में केसर ड़ालकर प्रभु का अभिषेक करें. साथ ही विशेष चीजों का भोग लगाएं. कहा जाता है कि यह उपाय करने से धन लाभ के योग बनते हैं.

इसे भी पढ़ें-अगर आपके पास भी है ये कार तो सावधान, कंपनी ने किया Recall

श्रीराम को लगाएं इन चीजों का भोग
1.माना जाता है कि भगवान राम को पंचामृत का भोग न लगाने से पूजा अधूरी रहती है. ऐसे में आप रामनवमी की पूजा के दौरान प्रभु को पंचामृत का भोग लगा सकते हैं.
2.भोग में खीर को भी शामिल कर सकते हैं. मान्यता है कि जब राजा दशरथ के घर भगवान राम और समेत चारों भाइयों का जन्म हुआ था, तो उस समय खीर ही बनाई गई थी.
3.अगर आप परिवार में सुख व समृद्धि चाहते हैं, तो इसके लिए आप राम नवमी पर मीठे बेर और कंदमूल का भोग लगाएं. पौराणिक कथा के अनुसार, भगवान राम ने वनवास के दौरान कंदमूल का सेवन किया था. 
4.भगवान श्रीराम के भोग के लिए आप घर पर केसर भा बना सकते हैं. ऐसा माना जाता है कि प्रभु को केसर भात का भोग लगाने दरिद्रता से छुटकारा मिलता है.

 


कुछ ही घंटों में शुरू होगा सूर्यग्रहण, अमेरिका में इसे देखने के लिए करोड़ों हुए खर्च

सोमवार को साल 2024 का सबसे लंबा सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है. बस कुछ ही घंटों बाद सूर्यग्रहण शुरू हो जाएगा, हालांकि इसका भारत पर कई असर नहीं होगा. 

Last Modified:
Monday, 08 April, 2024
Solar eclipse

अब से कुछ घंटों बाद धरती पर बेहद रहस्यमयी खगोलीय घटना होने वाली है. सोमवार को साल 2024 का सबसे लंबा सूर्य ग्रहण लगेगा. ज्योतिष शास्त्र में इसे एक अशुभ घटना माना गया है, लेकिन ये सूर्य ग्रहण अमेरिका के लिए शुभ संकेत लाया है. अमेरिका में इस सूर्य ग्रहण को देखने के लिए करोड़ों का खर्चा किया जा रहा है, तो आइए हम आपको बताते अमेरिका में लेकर क्या तैयारियां चल रही हैं?

इतनी देर का होगा सूर्यग्रहण
भारत में रात 9.12 बजे से देर रात 2.22 बजे तक सूर्य ग्रहण रहेगा, अब से कुछ घंटों बाद धरती से 15 करोड़ किलोमीटर की दूरी पर मौजूद सूर्य की तरंगों को ग्रहण लगने वाला है. हालांकि इस ग्रहण का भारत पर कोई असर नहीं होगा. वहीं इस सूर्य का सबसे अधिक प्रभाव अमेरिका में पड़ने वाला है, वहां इसे लेकर जोरों पर तैयारी चल रही है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य ग्रहण अमेरिका के लोगों के लिए शुभ संयोग लेकर आया है. अमेरिका में हवाई जहाज की टिकटों से लेकर होटलों तक की एडवांस बुकिंग हो गई. 
 

इतने लोग देखेंगे सूर्य ग्रहण
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ये सूर्य ग्रहण अमेरिका को मंदी के ग्रहण से उबारने वाला है. 4 घंटे 25 मिनट का ये सूर्य ग्रहण पिछले 50 साल का सबसे लंबा सूर्य ग्रहण होगा. इस खगोलीय घटना को लेकर अमेरिका में लोगों में दीवानगी देखते ही बन रही है. इसके पीछे की वजह है इतना लंबा और इतना स्पष्ट सूर्य ग्रहण अमेरिका में अगले 20 साल में नहीं पड़ेगा. यही वजह है कि लोग इसे करीब से देखना चाहते हैं, महसूस करना चाहते हैं और इसलिए अमेरिका में 8 अप्रैल से पहले 50 लाख लोगों का सबसे बड़ा मूवमेंट हो रहा है.

उड़ेंगे दर्जनों हवाई जहाज
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अगले 2 दिनों में अमेरिका के करीब 14 शहरों के ऊपर से दर्जनों हवाई जहाज लगातार उड़ान भरेंगे. लोग अमेरिका आएंगे और फिर वापस अपने शहर लौटेंगे. अमेरिका के दूसरे राज्यों से लाखों लोग उन शहरों में पहुंच रहे हैं, जहां सूर्य ग्रहण बेहद साफ दिखाई देगा. अमेरिका में हजारों लोगों ने हवाई जहाज से सूर्य ग्रहण को देखने के लिए बुकिंग कराई है. आसमान से वो सूर्य ग्रहण का अद्भुत नजारा देखने के लिए लाखों खर्च कर रहे हैं. 

इन शहरों में दिखेगा ग्रहण
अमेरिका के टेक्सास, ओक्लाहोमा, मिसूरी, इलिनॉय, इंडियाना, मिशिगन, अर्कांसस, टेनेसी, केंटकी, ओहायो, पेन्सिलवेनिया, न्यूयॉर्क, वर्मोंट, न्यू हैम्पशायर, मैन वो शहर हैं, जहां पूर्ण सूर्य ग्रहण दिखेगा. इन शहरों में करीब साढ़े 4 मिनट तक दिन में रात हो जाएगी. 8 अप्रैल को जब पूर्ण सूर्य ग्रहण इन शहरों में दिखेगा, तब लाखों लोग इसके साक्षी बनेंगे. साल 2016 में भी ऐसा सूर्य ग्रहण पड़ा था लेकिन वो इतना लंबा नहीं था. हालांकि, सूर्य का क्रोमोस्फियर साफ दिखा था.

1500 फीसदी बढ़ गई टिकट की मांग
अमेरिका में दिन में 1.27 बजे से 4.35 बजे तक पूर्ण सूर्य ग्रहण दिखेगा, करीब 4 करोड़ 40 लाख लोग पूर्ण सूर्य ग्रहण के साक्षी बनेंगे. इसे लेकर विमानों में टिकट की मांग 1500 फीसदी बढ़ गई है. साउथ वेस्ट और डेल्टा जैसी एयरलाइन्स 185 किमी के रूट पर कई फ्लाइट्स चलाएंगी. कई विमान कंपनियां सरकार से घुमावदार रूट की मंजूरी में जुटी हैं जिससे दाईं और बाईं दोनों ओर की विंडो सीट पर बैठे लोग इस मनोरम दृश्य को आराम से देख सकें. कुछ लोग तो ऐसे हैं जो 30 घंटे का सफ़र तय कर उन शहरों में पहुंचे, जहां सूर्य ग्रहण बिल्कुल साफ दिखाई देगा. लोगों की बेताबी को देखते हुए डेल्टा एयरलाइंस ने 2 स्पेशल फ्लाइट्स का ऐलान किया, तो हजारों रुपए की टिकट्स हाथों हाथ बिक गई.

होटल की डिमांड 1200 गुना तक बढ़ी
सूर्य ग्रहण की वजह से अमेरिका के कई शहरों में होटल्स की डिमांड 1200 गुना तक बढ़ गई. ट्रांसपोर्ट कंपनियों ने ग्रहण वाले स्पॉट के लिए स्पेशल पैकेज जारी कर दिया है. कई शहरों में अच्छे होटल में एक रूम का किराया- 120 डॉलर जबकि 8 अप्रैल को एक रूम का किराया 1585 डॉलर तक पहुंच गया है. पाथ ऑफ टोटैलिटी यानी ग्रहण वाले शहरों में Airbnb के 90 फीसदी होटल बुक हो गए हैं. इंटरनेट पर Airbnb के होटलों की सर्च 1000 गुना तक बढ़ गई.

ग्रहण से कंपनियों की मौज!
कई कंपनियां सोलर एक्लिप्स पार्टी आयोजित कर रही हैं. स्पेशल सेटअप लगाकर सूर्य ग्रहण देखने का इंतजाम किया जा रहा है. साइंटिस्ट्स और एक्सपर्ट्स के साथ क्लब में सोलर पार्टी रखी जा रही है. जिन क्लब्स में 20 डॉलर में एंट्री होती थी वो 325 डॉलर वसूल रहे हैं. ISO प्रमाणित चश्मों की मांग काफी ज्यादा बढ़ गई है. कई वेबसाइट्स पर 3 डॉलर का चश्मा 16 डॉलर में बिक रहा है. अकेले टेक्सास में 1.4 बिलियन डॉलर का कारोबार होने की उम्मीद है. वर्मांट में 230 मिलियन डॉलर तक का व्यापार हो सकता है.

नासा फायर करेगा 3 रॉकेट
इस बेहद दुर्लभ खगोलीय घटना पर दुनियाभर के वैज्ञानिकों की नजर है. जब अमेरिका में करोड़ों लोग सूर्य ग्रहण को देख रहे होंगे, तब NASA धरती से अंतरिक्ष की ओर 3 रॉकेट फायर करेगा. तीनों रॉकेट्स सीधे ग्रहण की छाया में लॉन्च किए जाएंगे. वैज्ञानिकों की 3 टीम WB-57 हवाई जहाज के जरिए सूर्य ग्रहण का अध्ययन करेंगी. 2024 के सूर्य ग्रहण के वक्त WB-57 हवाई जहाज 57 हजार फीट की ऊंचाई पर उड़ेंगे. यानी एक तरफ जहां अमेरिका की अर्थव्यवस्था के लिए ये सुनहरा मौका है तो वहीं वैज्ञानिक उन रहस्यों से पर्दा उठा सकते हैं जिसका वो लम्बे वक्त से इंतजार कर रहे हैं.


9 अप्रैल से शुरू होगी चैत्र नवरात्रि, शुभ फल की प्राप्ति के लिए करें ये उपाय

पंचांग के अनुसार इस साल चैत्र नवरात्रि 9 अप्रैल से शुरू हो रही है और 17 अप्रैल को नवमी के साथ ही इसका समापन होगा. 

Last Modified:
Saturday, 06 April, 2024
Navratri

नवरात्रि मां दुर्गा की पूजा और उपासना का पर्व है. भारत में इस त्यौहार को बहुत खुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता है. श्रद्धालु माता रानी को प्रसन्न करने के लिए नौ दिनों का व्रत रखते हैं. आपको बता दें, साल में 4 बार नवरात्रि का व्रत रखा जाता है, जिसमें दो गुप्त नवरात्रि, तीसरी चैत्र नवरात्रि और चौथी शारदीय नवरात्रि शामिल है. पंचांग के अनुसार, इस साल चैत्र माह की नवरात्रि की शुरुआत 9 अप्रैल से होने जा रही है. इस साल नवरात्रि के पहले दिन सिद्धि योग, सर्वार्थ सिद्धि योग समेत कई अद्भुत संयोग बन रहे हैं. ऐसे में हम आपको बताते हैं कि आप कैसे माता रानी को प्रसन्न करके धन, सुख व समृद्धि का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं.
 
विधिवत पूजा करके माता को लगाएं भोग
ज्योतिषाचार्यों के अनुसार चैत्र नवरात्रि में मां के भक्त माता रानी को प्रसन्न करने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं, 9 दिनों तक व्रत रखते हैं. मां भगवती की विधिवत पूजा उपासना करके उनसे सुखी जीवन की कामना करते हैं. ऐसे में नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों के पूजा के साथ उन्हें 9 दिनों तक विशेष चीजों का भोग लगा सकते हैं. मान्यता है कि ऐसा करने से मां दुर्गा प्रसन्न होती है और धन, सुख व समृद्धि का आशीर्वाद देती हैं. 

नवरात्रि का मुहुर्त
पंचांग के अनुसार इस साल चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि आरंभ 8 अप्रैल को रात 11:50 पर होगी और अगले दिन 9 अप्रैल को 8:30 पर समाप्त होगी इसलिए उदय तिथि के अनुसार 9 अप्रैल से चैत्र नवरात्रि का आरंभ होगा 13 अप्रैल को समापन होगा. ज्योतिषाचार्यों के अनुसार यह व्रत स्त्री और पुरुष दोनों कर सकते हैं. 

माता रानी को लगाएं मिठाई का भोग
नवरात्रि के नौ दिन माता रानी के नौ अलग अलग स्वरूपों की पूजा होती है. ऐसे में हर दिन माता रानी को अलग अलग मिठाई या प्रसाद का भोग लगाएं. ऐसा करने से आपको शुभ फल की प्राप्ति होगी. 
-पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है, इस दिन माता रानी को घी से बनी मिठाई का भोग लगाएं. 
-नवरात्रि के दूसरे दिन मां के ब्रह्मचारिणी स्वरूप की विधिवत पूजा करें और उन्हें पंचामृत का भोग लगाएं. 
-नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है, उन्हें दूध से बनी मिठाई का भोग लगाएं. 
-नवरात्रि के चौथे दिन मां कुष्मांडा की पूजा की जाती है, उन्हें माल पुआ का भोग लगाना शुभ माना जाता है. 
-नवरात्रि के पांचवें दिन स्कंद माता की पूजा करें और उन्हें चीनी या केले का भोग लगाएं. 
-नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा करें और उन्हें मीठे पान का भोग लगाएं.
- नवरात्रि के सातवें दिन महाकाल रात्रि की विधिवत पूजन से पूजा करें और उन्हें गुड़ की बनी मिठाई का भोग लगाएं.
-आठवें दिन में महागौरी की पूजा करके उन्हें नारियल का भोग लगाएं. 
-नौवे दिन में मां सिद्धिदात्री की पूजा करें और उन्हें खीर, पुड़ी और हलवे का भोग लगाएं.
 


सोमवार को रहेगा चंद्रग्रहण, जानें होली पर इसका क्या होगा असर?

25 मार्च यानी सोमवार को होली के साथ ही चंद्रग्रहण लगने वाला है. ये साल का पहला चंद्रग्रहण होगा, जिसका असर कन्या राशि पर रहेगा.

Last Modified:
Sunday, 24 March, 2024
Holi celebration

इस साल का पहला चंद्रग्रहण 25 मार्च यानी सोमवार को लगने जा रहा है. वहीं, इसी दिन देशभर में होली का जश्न भी मनाया जाएगा. हिंदू पंचांग के अनुसार, फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को होली का त्योहार मनाया जाता है. ज्योतिषियों की मानें तो, इस बार होली बहुत ही अनोखी मानी जा रही है क्योंकि होली के दिन ही साल का पहला चंद्रग्रहण लगना जा रहा है. ऐसे में लोग इसी सोच में पड़े हैं कि इस बार होली मनाई जाएगी या नहींं, या होली पर ग्रहण का कितना असर पड़ेगा, तो आइए आपको बताते हैं ेचंग्रहण पर होली का कितना प्रभाव रहेगा और आप होली मना सकेंगे या नहीं. 

ग्रहण का समय और प्रभाव
ज्योतिषियों के अनुसार, चंद्रग्रहण सोमवार सुबह 10 बजकर 30 मिनट से शुरू होगा और दोपहर 3 बजकर 02 मिनट पर यह समाप्त होगा. इस ग्रहण की अवधि लगभग 4 घंटे 36 मिनट की रहेगी. साल का पहला चंद्रग्रहण कन्या राशि में लगेगा. हालांकि, यह चंद्रग्रहण भारत में नहीं दिखेगा. लेकिन, फिर भी इसका प्रभाव लोगों पर पड़ेगा. साथ ही देश विदेश पर पड़ेगा. 

क्या होगा होली पर असर?
पंचांग के अनुसार, फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को साल का पहला चंद्रग्रहण लगने जा रहा है. यह चंद्र ग्रहण भारत में नहीं दिखेगा, जिस कारण इसका सूतक काल भी मान्य नहीं होगा. इसलिए,  भारत में होली खेली जा सकती है, यानी होली पर चंद्रग्रहण का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. साथ ही किसी धार्मिक कार्य और पूजा पाठ पर भी रोक नहीं लगेगी. लेकिन,  यह चंद्र ग्रहण अमेरिका, जापान, रूस के कुछ हिस्सों, स्पेन, इटली, पुर्तगाल, आयरलैंड आदि देशों में दिखेगा.  

क्या होगा होलिका दहन शुभ मुहूर्त?
आज होलिका दहना किया जाएगा. होलिका दहन की शुरुआत 24 मार्च यानी आज सुबह 9 बजकर 54 मिनट से होगी और समापन 25 मार्च यानी कल दोपहर 12 बजकर 29 मिनट पर होगा. आज भद्रा काल सुबह 9 बजकर 24 मिनट से शुरू होगा और रात 10 बजकर 27 मिनट तक रहेगा, इसलिए आज रात 10 बजकर 27 मिनट के बाद ही होलिका दहन किया जा सकता है. 

किन राशियों के लिए रहेगा शुभ? 
25 मार्च को लगने जा रहा है चंद्रग्रहण का सभी राशियों पर प्रभाव पड़ेगा. मिथुन, मकर, सिंह और धनु वालों के लिए यह साल का पहला चंद्रग्रहण बहुत ही शुभ माना जा रहा है और लाभ होने की संभावना भी बन रही है.  कर्क, कन्या और कुंभ राशि वालों के लिए अशुभ माना जा रहा है.

इसे भी पढ़ें-डबल हो गईं होली की खुशियां, सरकार दे रही है फ्री सिलेंडर; ऐसे उठाएं लाभ

 

ग्रहण के दौरान क्या करें और क्या नहीं?
ग्रहण के दौरान कोई भी शुभ कार्य न करें, किसी मांगलिक कार्य का संकल्प न लें और 
कोई भी धार्मिक अनुष्ठान करने से बचें. वहीं, इस दौरान भगवान का ध्यान करें, खाने के सामान में तुलसी के पत्ते रख दें, शुद्ध जल से स्नान करें और गरीबों को भी दान करें.  

 


क्या कहते हैं क्रिप्टो करेंसी के सितारे, कैसा रहेगा आने वाला कल?

दिल्ली के सिलेब्रिटी एस्ट्रोलॉजर और पामिस्ट आचार्य प्रवीण चौहान के अनुसार सितारों को देखकर और ज्योतिष के माध्यम से निवेशक क्रिप्टो बाजार में निवेश करके फायदा कमा सकते हैं.                                                                  

Last Modified:
Monday, 18 March, 2024
Astrologer praveen

क्या क्रिप्टोकरेंसी नई आकाशीय(Celetial), यूनिवर्सल इंटरनेट मुद्रा हो सकती है, जो पैसे को देखने के हमारे तरीके को बदल देगी? तो आइए दिल्ली के सेलेब्रिटी एस्ट्रोलॉजर और पामिस्ट आचार्य प्रवीण चौहान से क्रिप्टोकरेंसी का ज्योतिष जानते हैं. प्रवीण चौहान के अनुसार कई नए क्रिप्टोकरेंसी करोड़पतियों के निर्माण के पीछे ज्योतिष और सितारों का संरेखण प्रेरक शक्ति रही हैं. ये ऐसे लोग थे जिन्होंने क्रिप्टोकरेंसी तब खरीदी जब इसकी कीमत पेनी में मापी जाती थी और फिर जब क्रिप्टोकरेंसी ने हजारों डॉलर पर कारोबार किया तब इन्होंने अपनी हिस्सेदारी का एक हिस्सा बेचकर मुनाफा कमाया. इसी तरह ये लोग आज करोड़पति बन गए हैं. 

क्रिप्टोकरेंसी की कीमत की गति और दिशा का अनुमान

आचार्य प्रवीण के अनुसार उनके वैदिक ज्योतिष अध्ययन के माध्यम से प्राचीन विज्ञान का उपयोग करके क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों की गति और दिशा का अनुमान लगाया जा सकता है. आख़िरकार ज्योतिष और वित्तीय तकनीकी विश्लेषण के बीच समानताएं हैं. दोनों प्रथाएं उन रुझानों की पहचान करने के लिए अतीत के डेटा का उपयोग करती हैं, जो पहले ही साकार हो चुके हैं और फिर उस जानकारी का उपयोग करके पैटर्न के भविष्य के परिणामों का पूर्वानुमान लगाते हैं. तीन में से एक व्यक्ति के पास इन खगोलीय संपत्तियों पर सट्टा लगाने और निवेश करने की प्राकृतिक प्रतिभा होती है. आप चाहे एक अनुभवी निवेशक हों या अभी शुरुआत कर रहे हैं, आपके लिए क्रिप्टो क्षेत्र जैसे अस्थिर बाजारों में निवेश करने के लिए वैदिक ज्योतिष फायदेमंद हो सकती है.

तारीख, समय और स्थान से लगा सकते हैं पूर्वानुमान

ज्योतिष में किसी व्यक्ति के जन्म की तारीख, समय और स्थान उसके जीवन पर खगोलीय गतिविधि के प्रभाव का पूर्वानुमान लगाने के लिए आवश्यक तत्व हैं. इसी तरह क्रिप्टोकरेंसी के लिए ज्योतिष पढ़ने के लिए हमें इसकी लॉन्च तिथि पर विचार करने की आवश्यकता है. उदाहरण के लिए 3 जनवरी 2009 को बनाया गया बिटकॉइन का जेनेसिस ब्लॉक, इसकी जन्मतिथि के समकक्ष के रूप में कार्य करता है. जब क्रिप्टोकरेंसी में निवेश की सफलता की बात आती है, तो किसी व्यक्ति की कुंडली में ग्रहों और घरों की स्थिति और संयोजन मूल्यवान अंतर्दृष्टि प्रदान कर सकते हैं, जबकि क्रिप्टोकरेंसी अप्रत्याशित साबित हुई है और हमेशा बाजार के रुझान का पालन नहीं करती है. क्रिप्टो बाजार की अस्थिर प्रकृति के बावजूद इसके उद्योग में हाल के वर्षों में जबरदस्त वृद्धि हुई है.

इस महीने में बढ़ सकती है बिटकाइन की कीमत

विश्लेषण के अनुसार अप्रैल में बिटकॉइन हॉल्टिंग इवेंट बिटकॉइन की कीमत को नई सर्वकालिक ऊंचाई पर ले जा सकता है. मुद्रास्फीति के खिलाफ बचाव के रूप में मानी जाने वाली संपत्ति अमेरिकी फेडरल रिजर्व ब्याज दरों में उतार-चढ़ाव पर भी प्रतिक्रिया करती है. वॉल स्ट्रीट विशेषज्ञ उम्मीद कर रहे हैं कि फेडरल रिजर्व इस साल कम से कम 3 बार ब्याज दरों में कटौती करेगा, जिसके परिणामस्वरूप अर्थव्यवस्था में अधिक धन प्रवाहित होगा और निवेशकों की क्रय शक्ति में वृद्धि होगी, जिसके परिणामस्वरूप अधिक धनराशि बिटकॉइन जैसी परिसंपत्तियों में स्थानांतरित होगी.

ज्योतिष के पास भाग्य के रहस्यों को खोलने की कुंजी

सितारों को देखकर और ज्योतिष से अंतर्दृष्टि प्राप्त करके, निवेशक क्रिप्टो बाजार में खेल रही अनोखी ताकतों की गहरी समझ प्राप्त कर सकते हैं. इस ज्ञान के साथ वे अधिक जानकारीपूर्ण निर्णय ले सकते हैं और संभावित रूप से 2024-25 और उसके बाद सफलता के छिपे अवसरों को प्राप्त कर सकते हैं. ज्योतिषीय घरानों (astrological houses) के पास सट्टा लाभ में भाग्य के रहस्यों को खोलने की कुंजी है, खासकर क्रिप्टो बाजार में ये संभव है. 

कैसे काम करते हैं ये ज्योतिष घराने?

ज्योतिष घरानों के 4 प्रमुख घर (House) आपकी सफलता या विफलता की क्षमता का निर्धारण करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

1.जन्म कुंडली में दूसरा घर (2nd House) संचित धन का प्रतिनिधित्व करता है और इसकी स्थिति क्रिप्टो बाजार में अमीर होने की आपकी संभावना को सीधे प्रभावित कर सकती है. 

2.आठवां घर (8th House) अचानक लाभ और संपत्ति को नियंत्रित करता है. इसकी अनुकूल स्थिति व्यक्ति को ऐसे अवसर प्रदान कर सकती है जो प्रचुर मात्रा में धन लाते हैं. इस घर में भाग्य एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और ब्रह्मांडीय संरेखण वित्तीय लाभ लाने के लिए अद्भुत काम कर सकता है.

3. नौंवा घर (9th House) को भाग्य और सौभाग्य का भाव कहा जाता है. इस घर में स्थिति को आपके पक्ष में मोड़ने की शक्ति है और जिन लोगों को मजबूत 9वें घर का आशीर्वाद प्राप्त है, उन्हें अपनी निवेश यात्रा में वित्तीय लाभ और सफलता का अनुभव होने की संभावना है.

4.12वां घर (12th House) नुकसान का प्रतीक है और क्रिप्टो बाजार में सफलता के लिए एक बड़ी बाधा हो सकता है. नकारात्मक ऊर्जा और आपके निवेश पर इसके संभावित प्रभाव से बचने के लिए इस घर की सावधानीपूर्वक निगरानी और नियंत्रण की आवश्यकता है. सही मार्गदर्शन और ज्योतिषीय अंतर्दृष्टि के साथ आप 12वें घर में प्रवेश कर सकते हैं और अपनी वित्तीय सफलता के रास्ते में आने वाली किसी भी बाधा को दूर कर सकते हैं.


राम मंदिर में चढ़ावे का अंबार, पहले दिन भक्तों ने दान किए 3.17 करोड़!  

श्रीराम के दर्शन के लिए अयोध्या के राम मंदिर पहुंचने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है. भक्त दिल खोलकर दान भी कर रहे हैं.

बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो by
Published - Thursday, 25 January, 2024
Last Modified:
Thursday, 25 January, 2024
file photo

'वनवास' खत्म कर अयोध्या (Ayodhya) पधारे श्रीराम के दर्शन के लिए भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा है. इतनी बड़ी संख्या में श्रद्धालु अयोध्या पहुंच रहे हैं कि प्रशासन के लिए व्यवस्था संभालना मुश्किल हो गया है. इस बीच, राम मंदिर (Ram Mandir) की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के बाद पहले दिन यानी मंगलवार को चढ़ावे का जो आंकड़ा आया है, उसने सभी को चौंका दिया है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, एक ही दिन में राम भक्तों द्वारा 3.17 करोड़ रुपए का चढ़ावा (Donation) चढ़ाया गया है. 

बड़ी संख्या में भक्तों ने किए दर्शन
रिपोर्ट्स में राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के ट्रस्टी अनिल मिश्रा के हवाले से बताया गया है कि प्राण प्रतिष्ठा के दिन 10 दान काउंटर खोले गए थे. 22 जनवरी को समारोह के बाद श्रद्धालुओं ने दान काउंटर और ऑनलाइन दान के रूप में 3.17 करोड़ रुपए डोनेट किए हैं. उन्होंने बताया कि 23 जनवरी को पांच लाख से ज्यादा भक्तों ने दर्शन किए. जबकि, इसके एक दिन बाद रात 10 बजे तक 2.5 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने रामलला के दर्शन किए. बुधवार को चढ़ावे के रूप में जो राशि प्राप्त हुई है, उसकी जानकारी आज सामने आएगी. 

रात 10 बजे तक खुल रहा मंदिर
श्रद्धालुओं की भारी भीड़ के चलते फिलहाल मंदिर सुबह छह बजे से रात 10 बजे तक खोला जा रहा है. जबकि मंदिर के खुलने का पूर्व निर्धारित समय सुबह 7 बजे से सुबह साढ़े ग्यारह बजे तक, फिर दोपहर 2 बजे से शाम 7 बजे तक थी. उत्त प्रदेश में पड़ रही भीषण ठंड और कोहरे के बावजूद लोग बड़ी संख्या में राम लला के दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं. मुख्य मार्ग राम पथ और मंदिर परिसर के आसपास लंबी कतारें देखी जा सकती हैं. वहीं, सुरक्षा के मद्देनजर मंदिर परिसर के बाहर रैपिड एक्शन फोर्स (RAF) और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) की टीमों की तैनाती की भी खबर है. 

करोड़ों का कारोबार भी हुआ 
राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा को पूरे देश में दिवाली की तरह मनाया गया था. इस मौके पर करोड़ों का कारोबार हुआ है. हाल ही में कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) की तरफ से बताया गया था कि राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह के चलते देश में लगभग 1.25 लाख करोड़ रुपए के कारोबार का अनुमान है. उत्तर प्रदेश में लगभग 40 हजार करोड़ की वस्तु एवं सेवाओं की बिक्री हुई. जबकि राजधानी दिल्ली में यह आंकड़ा 25 हजार करोड़ रुपए पहुंच गया. CAIT के महासचिव प्रवीन खंडेलवाल ने कहा था कि संभवतः देश में यह पहली बार है जब आस्था एवं भक्ति के कारण इतनी बड़ी राशि व्यापार के जरिए बाजारों में आई. खास बात ये है कि यह कारोबार छोटे व्यापारियों एवं लघु उद्यमियों द्वारा किया गया, जिसकी वजह से यह पैसा व्यापार में आर्थिक तरलता को बढ़ाएगा. खंडेलवाल के मुताबिक, राम मंदिर की वजह से देश में कारोबार के नए अवसर मिले हैं और लोगों को बड़े पैमाने पर रोजगार भी मिलेगा.  
 


VVIP की मौजूदगी में हुई प्राण प्रतिष्ठा, आम जनता कब से कर सकेगी श्रीराम के दर्शन?

अयोध्या में राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा हो गई है. पूरे देश ने इस ऐतिहासिक पल को लाइव देखा. हालांकि, इस मौके पर मंदिर में केवल उन्हें ही प्रवेश की अनुमति थी जिन्हें आमंत्रित किया गया था.

Last Modified:
Monday, 22 January, 2024
Ram Mandir

Ram Mandir Opening Date: अयोध्या के राम मंदिर (Ayodhya Ram Mandir) की प्राण प्रतिष्ठा हो गई है. इस मौके पर पीएम मोदी सहित देश-दुनिया के तमाम गणमान्य अतिथि मौजूद रहे. प्राण प्रतिष्ठा वाले दिन केवल वही उन्हें ही मंदिर में प्रवेश की अनुमति थी, जिन्हें आमंत्रित किया गया था. ऐसे में यह सवाल लाजमी है कि आम श्रद्धालुओं के लिए मंदिर कब खोला जाएगा? श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने इसके साथ ही कई दूसरे सवालों का जवाब भी दे दिया है, चलिए जानते हैं कि आखिर ट्रस्ट की तरफ से क्या बताया गया है.

क्या रहेगा मंदिर खुलने का टाइम?
राम मंदिर का प्रबंधन श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट कर रहा है, जिसकी स्थापना सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर केंद्र सरकार ने की थी. ट्रस्ट ही मंदिर निर्माण की निगरानी भी कर रहा है. ट्रस्ट का कहना है कि 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा के बाद अगले दिन यानी 23 जनवरी से आम श्रद्धालु श्रीराम के दर्शन कर सकेंगे. 22 जनवरी को केवल उन्हें ही दर्शन की अनुमति थी, जिन्हें आमंत्रित किया गया था. 23 जनवरी से सभी के लिए मंदिर के कपाट खुल जाएंगे. अयोध्या का राम मंदिर सुबह 7:00 बजे से दोपहर 11:30 बजे और फिर दोपहर 2:00 बजे से शाम 7:00 बजे तक श्रद्धालुओं के लिए खुलेगा. दोपहर में ढाई घंटे भोग व विश्राम के लिए मंदिर बंद को बंद रखा जाएगा.

ये भी पढ़ें - केवल आस्था का ही प्रतीक नहीं है Ram Mandir, यूपी की आर्थिक सेहत भी होगी मजबूत

क्या करती में हो सकेंगे शामिल?
राम मंदिर में आरती की बात करें, तो दिन में तीन बार आरती होगी. पहली- सुबह 6:30 बजे, जिसे जागरण या श्रृंगार आरती कहते हैं. दूसरी- दोपहर 12:00 बजे जिसे भोग आरती कहते हैं और तीसरी शाम को 7:30 बजे संध्या आरती होगी. यदि आप आरती में शामिल होना चाहते हैं, तो आपको श्रीराम मंदिर तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट से पास लेना होगा. पास के लिए वैध ID प्रूफ आवश्यक है. एक बार में केवल 30 लोग ही आरती में शामिल हो सकेंगे. यह भी जान लीजिये कि मंदिर में दर्शन के लिए किसी भी तरह का शुल्क नहीं देना होगा. 

स्टेशन से कितनी है दूर है मंदिर?
अयोध्या की दूसरे शहरों से कनेक्टिविटी अब काफी अच्छी हो गई है. कई फ्लाइट्स ऑपरेट हो रही हैं. इसके अलावा, कई ट्रेनें भी चलाई गई हैं. बस सर्विस भी कई शहरों से अयोध्या को जोड़ती है. अयोध्या के रेलवे स्टेशन से मंदिर की दूरी महज 5 किलोमीटर है. जबकि शहर के महर्षि वाल्मीकि अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से मंदिर की दूरी करीब 17 किमी है. बता दें कि अयोध्या के भव्य राम मंदिर के निर्माण पर 1600 करोड़ रुपए से ज्यादा का खर्चा आया है. हालांकि, राज्य या केंद्र सरकार ने यह खर्चा नहीं किया है. बल्कि देश-विदेश के रामभक्तों से मिले चंदे से मंदिर का निर्माण हुआ है.
 


भगवान राम की हुई है प्राण प्रतिष्‍ठा, जानिए 84 सेकेंड का रहस्‍य 

प्राण प्रतिष्‍ठा के इस कार्यक्रम के साथ ही भगवान राम की पहली छवि देश के सामने आ चुकी है. इस प्राण प्रतिष्‍ठा को देखने दुनियाभर के मेहमान आए हुए हैं.

Last Modified:
Monday, 22 January, 2024
Pran Pratistha

अयोध्‍या में भगवान राम की प्राण प्रतिष्‍ठा का कार्यक्रम पूरा हो चुका है. भगवान राम की वो मूरत पूरे देश के सामने आ चुकी है जिसका देश के करोड़ों रामभक्‍तों को इंतजार था. पीएम मोदी और संघ प्रमुख की मौजूदगी में हुए प्राण प्रतिष्‍ठा कार्यक्रम में कई अन्‍य लोग भी मौजूद रहे. आज राम मंदिर की प्राण प्रतिष्‍ठा हुई है वो 84 सेकेंड का मुहूर्त सबसे दिलचस्‍प है. 12:29:08 से 12:30:32 तक का मुहुर्त ऐसा समय है जिसमें सबसे खास समय बन रहा है. कई पंडितों ने इस मुहूर्त का चयन किया है. आज हम आपको बताएंगे कि आखिर क्‍यों भगवान राम की प्राण प्रतिष्‍ठा के लिए इन्‍हीं 84 सेकेंड का चयन किया गया है. 

पीएम मोदी ने किया प्राण प्रतिष्‍ठा का पूजन 
पीएम मोदी ने इन 84 सेकेंड में ही राम मंदिर में प्राण प्रतिष्‍ठा की पूजा की. इस मौके पर उनके साथ संघ प्रमुख मोहन भागवान, राज्‍यपाल आनंदी बेन पटेल और दूसरे यजमान अनिल शर्मा भी मौजूद रहे. अनिल शर्मा ने अपनी पत्‍नी के प्राण प्रतिष्‍ठा कार्यक्रम में भाग लिया. वो राम मंदिर ट्रस्‍ट के सदस्‍य हैं.प्राण प्रतिष्‍ठा के बाद आरती भी की गई. 

जानिए क्‍या खास है इस मुहूर्त में 
अयोध्‍या में 12:29:08 से 12:30:32 तक जिस समय में प्राण प्रतिष्‍ठा का कार्यक्रम संपन्‍न हुआ वो बेहद शुभ है. इस मुहूर्त में सबसे खास ये है कि इस समय में मेष लग्‍न है, वृश्चिक नवांश है और अभिजीत क्षण है.  इस समय में जो नक्षत्र चल रहा है वो मृक्षेष है जो कि भगवान चंद्र के साथ जुड़ा हुआ है. आज सोमवार है. सोमवार को 12:29:08 से 12:30:32 तक परम योग बना है. इंद्र योग, आनंद योग, सर्वार्थ सिद्धी योग, अमृत सिद्धी योग बाणपंचक सिद्धी योग नहीं होने से ये संजीवनी योग बन रहा है. पंचबाण न होने से ये ये संजीवनी योग और लग्‍नेश मंगल में होने से नवमेश गुरु की परंपरा होने से ये राजयोग बन रहा है. मकर में भगवान सूर्य हैं. इसके चलते ये योग और महत्‍वपूर्ण हो गया है. इसीलिए इस समय का चयन किया गया है. इसलिए देश के कई विद्वानों ने इस समय का चयन किया था. 

देश भर से मिले हैं भगवान राम को तोहफे 
राम मंदिर ट्रस्‍ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि भगवान राम को उनके मंदिर में प्राण प्रतिष्‍ठा से पहले कई तोहफे मिले हैं. इनमें जनकपुरी मिथिला से छत्‍तीसगढ़ से भार अनाज चिवड़ा, फल, मेवे आए हैं. जोधपुर के संत 6 क्विंटल घी लेकर आए हैं. वो बैलगाड़ी में लाया गया है.  यूपी के रायबरेली से राख आई है जो आई है. कर्नाटक से ग्रेनाइट आया है. सफेद पत्‍थर मकराना से आया है.

ये भी पढ़ें: पीएम मोदी पहुंचे मंदिर परिसर, कार्यक्रम में मौजूद हैं ये उद्योगपति और सुपरस्‍टार


प्राण प्रतिष्‍ठा कार्यक्रम में मौजूूद रहे ये उद्योगपति और सुपरस्‍टार

प्राण प्रतिष्‍ठा कार्यक्रम में आने वाले सभी मेहमानों के लिए विशेष महाप्रसाद की तैयारी की गई है. इस प्रसाद के 20 हजार से ज्‍यादा पैकेट बनाए गए हैं.

Last Modified:
Monday, 22 January, 2024
पीएम मोदी

राम मंदिर की प्राण प्रतिष्‍ठा कार्यक्रम में पहुंचने वाले कई मेहमानों की जानकारी तो पहले ही सामने आ गये थे लेकिन आज कई और नाम ऐसे हैं जो इस कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए पहुंचे हैं. राम मंदिर की प्राण प्रतिष्‍ठा में अब तक उद्योगपति कुमार मंगलम बिडला से लेकर सुपरस्‍टार में रजनीकांत और जैकी श्राफ तक पहुंच चुके हैं. उद्योगपति से लेकर सुपरस्‍टार तक सभी लोगों ने वहां पहुंचने पर कहा कि वो इस पल के बारे में बता नहीं सकते हैं कि वो कैसा महसूस कर रहे हैं.

ये उद्योगपति ले रहे हैं भाग
राम मंदिर कार्यक्रम में उद्योगजगत के लगभग सभी दिग्‍गज नजर आए. इनमें जहां कुमार मंगलम बिडला, रिलायंस प्रमुख अनिल अंबानी, नीता अंबानी, और ईशा अंबानी ने भाग लिया. यही नहीं राम मंदिर के इस प्राण प्रतिष्‍ठा कार्यक्रम में अजय पिरामल, OYO के मालिक रितेश अग्रवाल, Ease My Trip के निशांत पिट्ट, Zoho के फाउंडर श्रीीधर वेंबू  भी इसमें शिरकत करते नजर आए. इस कार्यक्रम में भारती समूह के प्रमुख सुनील भारती मित्‍तल भी नजर आए. सभी अतिथियों पर हेलीकॉप्‍टर से पुष्‍प वर्षा भी की गई.   

ये मेहमान पहुंचे अयोध्‍या 
रामलला की प्राण प्रतिष्‍ठा में अभिनेता रजनीकांत, अमिताभ बच्‍चन, हेमा मालिनी, विक्‍की कौशल, कैटरिना कैफ, मनोज जोशी, प्रसून जोशी, सचिन तेंदुलकर, सहित कई नामी सितारे इस कार्यक्रम में अभी तक पहुंच चुके हैं. गायक सोनू निगम, शंकर महादेवन, अनुराधा पौडवाल, सहित कई नामी गायकों ने अपनी प्रस्‍तुति दी है. 

कांची के शंकराचार्य ने भी किया पूजन 
कांची शंकराचार्य स्वामी विजयेंद्र रविवार को प्राण प्रतिष्ठा से पूर्व विशेष पूजा के लिए राम जन्मभूमि पहुंचे तो गोविंददेवजी महाराज, कोषाध्यक्ष, रामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट, गणेश्वर द्रविड़ और लक्ष्मीकांत दीक्षित सहित अन्य वेद विद्वानों द्वारा पूर्ण कुंभ स्वागतम के साथ उनकी अगवानी की गई. स्वामी ने यज्ञशाला की परिक्रमा कर सभी कलशों में पुष्प अर्पित किये और फिर केंद्रीय कलश में आकर मंत्रोच्चार के बीच हरथी का प्रदर्शन किया. उन्होंने राम भगवान पर विशेष मंत्रों का जाप किया और फिर नए मंदिर की ओर प्रस्थान किया. प्रवेश करने से ठीक पहले मंदिर के पहले चरण में नारियल तोड़ा गया, उसके बाद पहले दो स्तंभों के सामने दो और नारियल फोड़े गए, जिन पर गणेश जी अंकित थे. बाद में शंकराचार्य अर्ध मंडप के अंदर गए और फिर गर्भ गृह में प्रवेश किया. विग्रह के न्यास के बाद कांची पीठाधिपति ने भगवान को विशेष अभारणम् प्रस्तुत किये. इसके उपरांत उन्हें अर्ध मंडपम में शॉल और अन्य सम्मान दिए गए जहां वैदिकों का अभिनंदन किया गया और विशेष अनुष्ठान पूजा के बाद विजयेंद्र स्वामी रविवार को ही कांची लौट गए.

मेहमानों के लिए तैयार किया गया है महाप्रसाद 
राम मंदिर प्राण प्रतिष्‍ठा कार्यक्रम में पहुंचे मेहमानों के लिए खास महाप्रसाद की तैयारी की गई है. मेहमानों के लिए जो महाप्रसाद बनाया गया है उसमें रोली-अक्षत, तुलसी दल, रक्षा सूत्र (कलावा), गुड़ रेवड़ी, राम दीया, इलायची दाना, रामदाना चिक्की, और मेवे के लड्डू जैसे सामान शामिल हैं. इस प्रसाद को विशेषतौर पर यहां आने वाले मेहमानों के लिए बनाया गया है. इसकी स्‍पेशल पैकेजिंग भी की गई है. खास प्रसाद के अब तक पूरे लगभग 20 हजार पैकेट तैयार किए जा चुके हैं. 

ये भी पढ़ें: वनवास खत्म, आज अयोध्या पधार रहे हैं श्रीराम; पूरा देश मनाएगा फिर से दिवाली